क्या चल रहा है?

कोरोना मरीजों को ‘जीवन लाइट’ से मिलेगी राहत की सांस, IIT हैदराबाद ने बनाया सस्ता वेंटिलेटर

  • कोरोना वायरस के संकट में वेंटिलेटर की कमी होगी दूर
  • मोबाइल से भी जीवन लाइट को किया जा सकता है ऑपरेट

इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (IIT) हैदराबाद ने ऐसा पोर्टेबल वेंटिलेटर तैयार करने में बड़ी कामयाबी हासिल की है, जो बेहद सस्ता और इमरजेंसी में इस्तेमाल करने लायक है. आईआईटी हैदराबाद के सेंटर फॉर हेल्थकेयर एंटरप्रेन्योरशिप के इनक्यूबेटेड स्टार्टअप एरोबियोसिस इनोवेशन्स ने इस वेंटिलेटर को उस समय तैयार किया है, जब भारत समेत पूरी दुनिया कोरोना वायरस से जूझ रही है.

इस वेंटिलेटर को ‘जीवन लाइट’ नाम दिया गया है, जो हाईटेक और कई खूबियों से लैस है. इसको मोबाइल ऐप के जरिए ऑपरेट किया जा सकता है और एक स्थान से दूसरे स्थान पर आसानी ले जाया जा सकता है. इतना ही नहीं, अगर कभी बिजली आपूर्ति बाधित होती है या किसी इलाके में बिजली की समस्या है, तो इसको बैटरी से ऑपरेट किया जा सकता है.

जीवन लाइट के प्रोग्रेस को रिव्यू करने के बाद आईआईटी हैदराबाद के डायरेक्टर प्रोफेसर बी. एस. मूर्ति ने कहा कि कोरोना वायरस संक्रमित ज्यादातर उन मरीजों को इमरजेंसी लाइफ सपोर्ट की जरूरत होती है, जो बुजुर्ग हैं. इसका इस्तेमाल सभी उम्र के लोगों को आक्सीजन की कमी होने पर किया जा सकता है.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

सेंटर फॉर हेल्थकेयर एंटरप्रेन्योरशिप की प्रोफेसर रेनू जॉन का कहना है कि जीवन लाइट वेंटिलेटर दूसरे सस्ते उपकरणों से अच्छा है. इसमें वायरलेस कनेक्टीविटी है और इसको रिमोट से कंट्रोल किया जा सकता है. कोरोना वायरस के प्रकोप में जीवन लाइट से डॉक्टरों और मेडिकल स्टाफ की भी सुरक्षा होगी.

अप्रैल के पहले सप्ताह से उपलब्ध होगा जीवन लाइट

प्रोफेसर रेनू जॉन का कहना है कि इससे कोरोना वायरस के संकट में वेंटिलेटर की कमी को दूर होगी. हम इंडस्ट्री पार्टनर्स और सरकार से इसको बड़े पैमाने में बनाने के लिए आगे आने की अपील करते हैं. एरोबियोसिस इनोवेशन्स जीवन लाइट को एक लाख रुपये में उपलब्ध कराने की योजना बना रहा है. फिलहाल कंप्यूटर के जरिए कंट्रोल किए जाने वाले वेंटिलेटर की कीमत 5 लाख रुपये से 40 लाख रुपये तक है. जीवन लाइट अप्रैल के पहले सप्ताह से बाजार में उपलब्ध हो सकेगा.

कोरोना मरीजों को सांस लेने में होने लगती है दिक्कत

दरअसल, कोरोना वायरस की चपेट में आने वाले मरीज को सांस लेने में दिक्कत होने लगती है. कोरोना वायरस के मामले बढ़ने से देश में वेंटिलेटर की डिमांड बढ़ गई है. मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए देश में वेंटिलेटर की कमी है. ऐसे में जीवन लाइट वेंटिलेटर की कमी दूर करने और कोरोना से लड़ने में मददगार साबित होगा.

आपको बता दें कि चीन के वुहान शहर से फैले कोरोना वायरस ने भारत समेत पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले लिया है. अब तक विश्वभर में 10 लाख से ज्यादा लोग इसकी चपेट में आ चुके हैं, जिनमें से 54 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. भारत में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या 2590 से ज्यादा हो चुकी है, जिनमें से 71 लोगों की जान जा चुकी है.

Source :aajtak.intoday.in

सबसे नया

To Top
//azoaltou.com/afu.php?zoneid=3256832