क्या चल रहा है?

345 मजदूर नासिक से भोपाल लौटे; जयपुर-पटना से 1200 यात्री और कोटा से एक हजार छात्र रवाना

भोपाल/जयपुर/नासिक/पटना. लॉकडाउन में फंसे लोगों की घर वापसी के लिए रेलवे ने 6 श्रमिक स्पेशल ट्रेनें शुरू की हैं। इनके जरिए मजदूरों और प्रवासियों की घर वापसी सुनिश्चित कराई जा रही है। इसके लिए कई तरह की शर्ते भी रखी गई हैं। लोगों को भेजने वाले और बुलाने वाले राज्यों की सरकारों के आग्रह पर ही विशेष ट्रेनें चलेंगी। शुरुआती और  स्टेशन के बीच में ट्रेन कहीं नहीं रुकेंगी। श्रमिकों को ट्रेन में बैठाने से पहले स्क्रीनिंग करवाना राज्य सरकार की जिम्मेदारी होगी। जिन लोगों में लक्षण नहीं होंगे उन्हें ही जाने की इजाजत मिलेगी।

शुक्रवार को ये छह ट्रेनें रवाना हुईं
1. जयपुर (राजस्थान) से पटना (बिहार)
2. कोटा (राजस्थान) से हटिया (झारखंड)
3. नासिक (महाराष्ट्र) से लखनऊ (उत्तरप्रदेश)
4. नासिक (महाराष्ट्र) से भोपाल (मध्य प्रदेश)
5. लिंगम्पल्ली (तेलंगाना) से हटिया (झारखंड)
6. अलुवा (केरल) से भुवनेश्वर ( ओडिशा)

मध्यप्रदेश:
छह डिब्बों की ट्रेन 345 मजदूरों को लेकर भोपाल शनिवार को भोपाल के मिसरोद स्टेशन पहुंची। जिन लोगों के पास पैसे नहीं थे, उनके टिकट जिला प्रशासन ने खरीदे। मप्र सरकार दूसरे राज्यों में फंसे प्रदेश के करीब 40 हजार मजदूरों को बसों के जरिए ले आई है। अब छह राज्यों में फंसे एक लाख छह हजार मजदूरों को वह ट्रेन के जरिए वापस लाएगी। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान शनिवार को रेल मंत्री से बात कर 80 से 100 ट्रेनें मांगेंगे और रूट तय करेंगे।

राजस्थान: 
राजस्थान के जयपुर से जयपुर-पटना ट्रेन से 1200 यात्री रवाना हुए। वहीं,  कोटा से एक हजार छात्र रवाना किए गए।  हालांकि अभी यह जानकारी नहीं मिली है कि ये छात्र किन राज्यों के हैं। मुख्य सचिव डीबी गुप्ता ने बताया कि श्रमिक और प्रवासी भारतीय रेलवे को निर्धारित साधारण श्रेणी का किराया देकर विशेष ट्रेनों में यात्रा कर सकेंगे। यात्री जल्द एवं सुरक्षित घर पहुंच सकें, इसके लिए अधिकारी रेलवे के साथ लगातार समन्वय कर रहे हैं।

आंध्रप्रदेश: 
हैदराबाद के लिंगमपल्ली स्टेशन से 1200 प्रवासी मजदूरों को लेकर स्पेशल ट्रेन शुक्रवार देर रात रांची के हटिया रेलवे स्टेशन पहुंची। ट्रेन से उतरने के बाद मजदूरों के चहरों पर मुस्कान दिख रही थी। इस दौरान रेलवे, पुलिस-प्रशासन के अधिकारी मौजूद रहे। ट्रेन से उतरने के बाद मजदूरों को सोशल डिस्टेंसिंग के तहत स्टेशन के बाहर लाया गया। फिर स्क्रीनिंग के बाद उन्हें उनके जिले के लिए स्टेशन के बाहर लगे बस में बिठाकर घरों की ओर रवाना किया गया।

महाराष्ट्र: 
महाराष्ट्र सरकार ने 74 बसों के जरिए राजस्थान के कोटा में फंसे सभी छात्रों को वापस बुला लिया है। इन्हें पहले पुणे ले जाया गया है। यहां इनकी जांच होगी और क्वारैंटाइन किया जाएगा।

सबसे नया

To Top
//whugesto.net/afu.php?zoneid=3256832