क्या चल रहा है?

20 साल पहले जब क्रिकेट की दुनिया में मचा था हड़कंप, क्रोनिए ने कबूला था गुनाह

वर्ष 2000 को विश्व क्रिकेट का सबसे काला अध्याय माना जाता है. इसी साल क्रिकेट में फिक्सिंग के पहले सबसे बड़े खुलासे से क्रिकेट की दुनिया में हड़कंप मच गया था. दक्षिण अफ्रीका के तत्कालीन कप्तान हैंसी क्रोनिए इस काले अध्याय के पहले विलेन थे.

फिक्सिंग में बड़ी भूमिका कबूली थी

20 साल पहले आज ही (11 अप्रैल) क्रोनिए ने कबूल किया था कि फिक्सिंग में उनकी बड़ी भूमिका थी. शुरुआती अप्रैल में क्रोनिए के फिक्सिंग से जुड़े होने की रिपोर्ट भारत से उभरी थी. जो ज्यादातर फोन पर बातचीत से जुड़ी थी. लेकिन क्रोनिए फिक्सिंग के आरोपों को गलत बताते रहे.

इस अफ्रीकी कप्तान का बड़ा सम्मान था

क्रिकेट जगत में क्रोनिए का बड़ा सम्मान था, किसी ने सोचा न होगा यह अफ्रीकी धुरंधर ऐसा भी कर सकता है. दक्षिण अफ्रीका क्रिकेट बोर्ड (UCBSA- The United Cricket Board of South Africa ) के एमडी अली बेचर को भी क्रोनिए की ईमानदारी पर पूरा भरोसा था. लेकिन आरोप के चार दिन ही बाद क्रोनिए ने सुबह तीन बजे बेचर को फोन कर कबूल किया था, ‘मैं पूरी तरह ईमानदार नहीं.’

दागदार क्रोनिए ने नया काम शुरू किया था

आखिरकार क्रोनिए से कप्तानी छीन ली गई. बाद में सरकार द्वारा नियुक्त किंग कमीशन ने क्रोनिए को असली दागदार साबित किया. क्रिकेट से दूर, क्रोनिए ने जोहानिसबर्ग की एक कंपनी के लिए एक वित्तीय प्रबंधक के तौर में अपना नया काम शुरू किया था.

क्रोनिए की मौत एक विमान हादसे में हो गई

…लेकिन 2 साल बाद 2002 में क्रोनिए की मौत एक विमान हादसे में हो गई. उस वक्त क्रोनिए महज 32 साल 26 महीने के थे. 2000 से अधिक लोगों ने उनके अंतिम संस्कार में भाग लिया. क्रोनिए ने 68 टेस्ट और 188 वनडे खेले. 53 टेस्ट मैचों में साउथ अफ्रीका की कप्तानी की, जो ग्रीम स्मिथ (108) के बाद सर्वाधिक है.

क्या था पूरा मामला –

इससे पहले 7 अप्रैल को क्या हुआ था…

मैच फिक्सिंग ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को तब हिला कर रख दिया था, जब दिल्ली पुलिस ने 7 अप्रैल 2000 को खुलासा किया कि दक्षिण अफ्रीकी कप्तान हैंसी क्रोनिए मैच फिक्सिंग में शामिल थे. क्रोनिए पर आजीवन प्रतिबंध लगाया गया.

हर्शल गिब्स ने किया था ये खुलासा

बाद में हर्शल गिब्स ने खुलासा किया कि क्रोनिए ने उन्हें नागपुर में भारत के खिलाफ 5वें वनडे मैच (19 मार्च 2000) में 20 से कम रन बनाने के लिए 15,000 डॉलर की पेशकश की थी. उन्होंने यह भी स्वीकार किया कि उस मैच में हेनरी विलियम्स को 50 से अधिक रन देने के लिए 15,000 डॉलर की पेशकश की गई थी.

गिब्स ने 53 गेंदों में 74 रन बनाए और हेनरी विलियम्स कंधे चोटिल हो गए. यह तेज गेंदबाज अपना दूसरा ओवर पूरा नहीं कर पाया, और उसे 15,000 डॉलर नहीं मिले.

क्रोनिए का कबूलनामा….

अपना अपराध को स्वीकार करते हुए क्रोनिए ने कहा था कि 1996 में कानपुर में तीसरे टेस्ट के दौरान मुकेश गुप्ता नाम के शख्स ने उन्हें 30,000 डॉलर दिए, ताकि आखिरी दिन उनकी टीम विकेट गंवाए और मैच हार जाए.

दक्षिण अफ्रीकी टीम ने 461 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए 127 रनों पर 6 विकेट गंवा दिए थे. क्रोनिए पहले ही आउट हो गए और उन्होंने अन्य खिलाड़ियों से बात नहीं की. उन्होंने कहा था, ‘मुझे बिना कुछ किए पैसे मिले थे…जवाबी दौरे (Return Tour) पर उन्हें टीम की जानकारी के लिए मुकेश गुप्ता से 50,000 डॉलर मिले थे.

Source :aajtak.intoday.in

सबसे नया

To Top
//azoaltou.com/afu.php?zoneid=3256832