क्या चल रहा है?

20 दिन में 4 तेंदुए पकड़े गए, सभी डीएफओ को किया अलर्ट

  • लॉकडाउन में माहौल शांत हुआ तो जंगल के जानवर लोगों के आशियाने तक पहुंचने लगे
  • जानवरों का शिकारी शिकार ना करें इसके लिए फॉरेस्ट एरिया की बढ़ाई गई सुरक्षा

पटना. (राजू कुमार) कोरोना वायरस के प्रकोप पर लगाम लगाने के मद्देनजर देशभर में लॉकडाउन घोषित है। लॉकडाउन होने की वजह से सड़कों पर सन्नाटा पसरा हुआ है।
सड़क पर सन्नाटा और आदमी ना देखने की वजह से जंगल के जानवर सड़क के माध्यम से मानव के आशियाना तक पहुंच रहे हैं। माहौल पूरी तरह से शांत है। जंगली जानवर और पशुओं के लिए यह बेहतर साबित होता है। प्रदूषण से राहत मिली है। हवा साफ है, सड़कों पर शोरगुल बंद है, चिड़ियों की चहचहाहट फिर से सुनाई दे रही है।

वहीं तेंदुए, हाथी से लेकर हिरण और यहां तक कि उदबिलाव जैसे जंगली जानवर भी सड़क से होकर गांव तक पहुंचने लगे हैं। बिहटा एयरफोर्स स्टेशन के अंदर एक तेंदुआ देखा गया था। वन विभाग की ओर से तेंदुआ की निगरानी की जा रही है। हालांकि अभी पकड़ा नहीं गया। वहीं 3 दिन पहले वैशाली में एक तेंदुआ पकड़ा गया। इसके अलावा बेतिया के मदनपुर जंगल से भाग कर दो तेंदुआ गांव तक पहुंचे। उसे भी पकड़ा गया। इसके अलावा हिरन, हाथी, पैंगोलिन सहित अन्य जानवर पकड़े जा रहे हैं।

यूपी-नेपाल से पहले भी भटककर आते रहे हैं जानवर

यूपी के दुधवा पार्क और नेपाल के चितवन पार्क से पहले भी जंगली जानवरों का आना-जाना लगा रहा है। वन विभाग के अधिकारियों का कहना है कि वैशाली में एक तेंदुआ मिला है। लग रहा है कि गंडक नदी के रास्ते से तेंदुआ वैशाली तक पहुंचा। वहीं बिहटा पहुंचे तेंदुए के बारे में अंदाज लगाया जा रहा है कि सोन नदी के रास्ते भटकते हुए पहुंचा है।

जानवरों की सुरक्षा को लेकर वन विभाग सतर्क

इन दिनों जानवरों की सुरक्षा को लेकर वन विभाग सतर्क हो गया है। सभी डीएफओ को अलर्ट कर दिया गया है। वन विभाग के एडिशनल प्रिंसिपल चीफ कंजरवेटर ऑफ फॉरेस्ट प्रभात कुमार गुप्ता ने बताया कि लॉकडाउन में शांत वातावरण होने के कारण कुछ जानवर सड़क पर आ गए हैं। अभी तक चार तेंदुआ को रेस्क्यू कर के जंगल में छोड़ा गया है। कैमूर सहित जंगलों में सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गई है।

Source :www.bhaskar.com

सबसे नया

To Top
//azoaltou.com/afu.php?zoneid=3256832