क्या चल रहा है?

होम आइसोलेशन वाले को सेल्फ आइसोलेशन अंडरटेकिंग फॉर्म भरना जरूरी

  • कोरोना संक्रमण में होम आइसोलेशन के लिए सरकार की गाइडलाइन जारी

कैमूर. कोविड-19 मामलों में होम आइसोलेशन को लेकर सरकार ने गाइडलाइन जारी किया है। कोरोना वायरस को बेहतर सुविधा देने के लिए सरकार द्वारा निरंतर प्रयास किया जा रहा है। स्वास्थ्य परिवार एवं कल्याण मंत्रालय भारत सरकार द्वारा कोरोना वायरस रोकथाम एवं उपचार के लिए लगातार गाइडलाइन जारी किया जा रहा है। इस दिशा में जारी गाइडलाइन के अनुसार वेरी माइल्ड कोविड-19 मामलों के होम आइसोलेशन को लेकर गाइडलाइन जारी किया गया है। कोरोना संक्रमित शंकर यूनिटों को बेहतर सुविधा प्रदान करने के लिए सरकार के द्वारा कोविड केयर सेंटर बनाए गए हैं। चिकित्सकों के जांच के बाद यह स्पष्ट होता है कि संक्रमित व्यक्ति को कैसी सुविधा की जरूरत है। संक्रमितो को संक्रमण के आधार पर चार श्रेणियों में बांटा गया है। जिसमें वेरी माइल्ड, माइल्ड, मॉडरेट,एवं सीनियर कोविड-19 इत्यादि संक्रमण शामिल है। माइल्ड मामलों के लिए कोविड केयर सेंटर, मॉडरेट के लिए डेडीकेटेड, कोविड-19 तथा सीवियर कोविड-19 संक्रमण के लिए डेडिकेटेड कोविड हॉस्पिटल की व्यवस्था की गई है। जबकि चिकित्सकों की पुष्टि के बाद वेरी माइल्ड कोविड-19 मामलों के लिए होम आइसोलेशन में रहने की सलाह दी गई है। जिसके लिए स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने गाइडलाइन जारी किया है।

होम आइसोलेशन के दौरान रहे सतर्क
होम आइसोलेशन के दौरान विशेष रुप से सतर्कता बरतने की बात कही गई है। प्रत्येक 8 घंटे पर मास्क को डिस्पोज करने का निर्देश दिया गया है। मास्क को सोडियम हाइपोक्लोराइट से डिश इफेक्ट करने के बाद ही बाहर फेंकने की सलाह दी गई है। मरीज को पर्याप्त मात्रा में आराम करने और पानी पी लेन की। सलाह दी गई है। जिला सर्विलांस पदाधिकारी द्वारा सत्यापित करने के बाद ही होम आइसोलेशन में रह रहे व्यक्ति को आइसोलेशन से मुक्त किया जाता सकता है। इसके लिए संक्रमित व्यक्ति में कोरोना वायरस लक्षण नहीं दिखाई देने चाहिए।

ट्रिपल लेयर मल्टी डिस्पोजल मास्क का करें इस्तेमाल, 
व्यक्तियों को ट्रिपल लेयर मल्टी डिस्पोजल मास्क का इस्तेमाल करना चाहिए। अपने चेहरे मुंह एवं नाक को छूने से बचना चाहिए। हाथों की सफाई करें। अल्कोहल बेस्ट सैनिटाइजर का प्रयोग करते हुए संक्रमित से डायरेक्ट कांटेक्ट में आने से बचें। मरीज को छूने से पहले हैंड ग्लब्स का प्रयोग और संक्रमित मरीज द्वारा इस्तेमाल किए गए किसी भी वस्तु का इस्तेमाल नहीं करें।

आइसोलेशन के दौरान 24 घंटे देखभाल करने वाला व्यक्ति उपलब्ध हो
मेडिकल ऑफीसर द्वारा अगर माइल्ड, कोविड-19 पुष्टि की जा चुकी है। ऐसे व्यक्तियों के घर पर होम आइसोलेशन की सुविधा उपलब्ध होने पर आइसोलेशन के दौरान 24 घंटे देखभाल करने वाला व्यक्ति उपलब्ध हो। आरोग्य सेतु एप डाउनलोड कर उसे हमेशा एक्टिव रखना जरूरी है। मरीज के स्वास्थ्य की स्थिति से जिला सर्विलांस पदाधिकारी को अवगत कराना जरूरी है। वह आइसोलेशन किए गए किए गए व्यक्ति को सेल्फ आइसोलेशन अंडरटेकिंग फॉर्म भरना जरूरी है।

रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद चिकित्सीय सलाह लेना आवश्यक
होम आइसोलेशन के दौरान चिकित्सीय सलाह का पूरी तरह से पालन करने का निर्देश दिया गया है। सांस लेने में अधिक तकलीफ हो रही हो, छाती में निरंतर दबाव या दर्द हो रहा हो मानसिक संशय बढ़ रहा हो या सोचने में दिक्कत हो रही हो,यदि चेहरा और होंठ निले पड़ रहे हो ऐसी परिस्थिति में चिकित्सीय सलाह भी अनिवार्य है।सरकार की ओर से नियमित रूप से कोरोना को लेकर नए गाइडलाइन जारी किए जा रहे है।

सबसे नया

To Top
//whugesto.net/afu.php?zoneid=3256832