क्या चल रहा है?

सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन की चीफ जस्टिस से अपील- गर्मी की छुट्टियों को किया जाए रद्द

  • सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन ने कहा- गर्मी की छुट्टियों में चले अदालत
  • इस साल 16 मई से पांच जुलाई तक होनी है सुप्रीम कोर्ट में गर्मी की छुट्टी

सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन (SCBA) ने सर्वसम्मति से एक प्रस्ताव पारित किया है, जिसमें चीफ जस्टिस शरद अरविंद बोबड़े समेत अन्य न्यायमूर्तियों से इस साल गर्मी की छुट्टी रद्द करने की अपील की गई है. सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन ने चीफ जस्टिस बोबड़े और अन्य न्यायमूर्तियों से कहा कि कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए लगाए गए लॉकडाउन की वजह से अदालत का कामकाज प्रभावित हो रहा है. लिहाजा इस दौरान बर्बाद हुए समय की भरपाई करने के लिए इस साल गर्मी की छुट्टी रद्द की जाएं और अदालत चलाई जाएं.

दरअसल, सुप्रीम कोर्ट की गर्मी की छुट्टी 16 मई से शुरू होती है, जो 5 जुलाई तक चलती है. गर्मी की छुट्टी के दौरान सुप्रीम कोर्ट की अवकाशकालीन पीठ ही सुनवाई करती है. बार एसोसिएशन ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट में वकालत करने वाले सभी वकील इस साल 16 मई से पांच जुलाई तक गर्मी की छुट्टी पर नहीं जाएंगे और कामकाज करते रहेंगे.

सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन ने यह भी मांग की कि अदालती कार्यवाही की लाइव स्ट्रीमिंग के लिए वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की सुविधा को और बेहतर किया जाए. फिलहाल कोरोना वायरस के चलते सुप्रीम कोर्ट में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बेहद जरूरी मामलों की ही सुनवाई हो रही है. हालांकि शीर्ष कोर्ट पूरी तरह से काम नहीं कर रहा है.

आपको बता दें कि चीन के वुहान शहर से फैले कोरोना वायरस ने भारत समेत पूरी दुनिया को अपनी गिरफ्त में ले लिया है. भारत समेत विश्वभर में कोरोना वायरस के मरीजों और इससे मरने वालों की संख्या तेजी से बढ़ रही है. अब तक दुनियाभर में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या 17 लाख 15 हजार 140 से ज्यादा हो चुकी है, जबकि एक लाख 3 हजार 870 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई है.

Source :aajtak.intoday.in

सबसे नया

To Top
//azoaltou.com/afu.php?zoneid=3256832