क्या चल रहा है?

राज्य में 8,500 से ज्यादा कोरोना पॉजिटिव, यह संख्या 174 देशों में मिले संक्रमितों की तादाद से ज्यादा

मुंबई.

महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमण लगातार विकराल होता जा रहा है। मंगलवार तक राज्य में कोरोना संक्रमित की संख्या 8,590 तक पहुंच गई। राज्य में कोरोना की भयावहता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि महाराष्ट्र में पूरी दुनिया के 174 देशों से ज्यादा संक्रमित मरीज हैं। कोरोना के दुनियाभर के आंकड़े देने वाले वाली वेबसाइट वर्ल्डओ मीटर के मुताबिक, राजधानी मुंबई में दुनिया के 164 देशों से ज्यादा संक्रमित मरीज हैं। वहीं, अगर देश की बात की जाए तो मंगलवार को कुल संक्रमितों की संख्या 29680 तक पहुंच गई। देश में 948 लोगों की जान भी संक्रमण से जा चुकी है। इसमें 369 सिर्फ महाराष्ट्र से हैं।

ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण अफ्रीका, थाईलैंड जैसे देशों से आगे महाराष्ट्र

174 देशों से अगर महाराष्ट्र में संक्रमितों की संख्या की तुलना की जाए तो 14 देश ऐसे हैं जहां 10 से कम पॉजिटिव हैं। वहीं, 52 ऐसे देश हैं जहां 10 से 100 के बीच संक्रमित मरीज हैं। बाकी, 102 देश ऐसे हैं जहां संक्रमितों की संख्या 100 से लेकर 8500 के बीच है। महाराष्ट्र से कम जिन देशों में संक्रमित मरीज हैं उनमें ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण अफ्रीका, थाईलैंड, फिलीपींस, बांग्लादेश, मलेशिया और कोलंबिया से देश शामिल हैं। वहीं, दुनिया के 37 देश देश हैं जहां संक्रमितों की संख्या महाराष्ट्र से ज्यादा है। इनमें सबसे ज्यादा मरीज अमेरिका में 10 लाख से ज्यादा है। इसके बाद स्पेन, इटली, फ़्रांस, जर्मनी और ब्रिटेन का नाम आता है।

महाराष्ट्र में मृतकों की संख्या भी 142 देशों से ज्यादा

संक्रमण से मौतों के मामले में भी महाराष्ट्र दुनिया के 142 देशों से आगे खड़ा है। दुनिया के 61 ऐसे देश हैं जहां मृतकों की संख्या 10 से कम है। वहीं 60 ऐसे देश हैं जहां 10 से 99 के बीच संक्रमित मरीजों की मौत हुई है। वहीं, 21 अन्य देश हैं जहां मृतकों की संख्या 100 से लेकर 337 के बीच में है। वहीं, अगर दुनिया की बात की जाए तो सबसे ज्यादा मौतें अमेरिका में हुई है। यहां 56 हजार से ज्यादा लोगों की अब तक जान जा चुकी है। वहीं पूरी दुनिया के 41 ऐसे देश हैं, जहां एक भी व्यक्ति की मौत नहीं हुई है।

इस ग्राफ से समझिए महाराष्ट्र में कैसे बढ़ा मृतकों का आंकड़ा:

पूरे देश की तुलना में महाराष्ट्र में मौत का ग्राफ थोड़ा कम जरूर नजर आ रहा है, लेकिन अन्य राज्यों की तुलना में हर दिन यहां सबसे ज्यादा मौत हुई है। नारंगी कलर महाराष्ट्र में हुई मौतों का दर्शा रहा है जबकि नीला रंग देश में हुई मौतों का आंकड़ा दर्शा रहा है।

दुनिया में 6.90% और महाराष्ट्र में 4.30% है मृत्युदर

वहीं, महाराष्ट्र स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक, 28 अप्रैल की सुबह तक भारत समेत पूरी दुनिया में 2878196 संक्रमित मरीज थे और 198668 लोग अपनी जान गंवा चुके थे। वहीं भारत में यह संख्या 29435 थी और यहां कुल 934 लोगों की मौत हो चुकी है। जिसमें से 369 सिर्फ महाराष्ट्र से हैं। मृत्यदर की बात करें तो पूरी दुनिया में कोरोना संक्रमितों की मृत्यु दर 6.90% है, वहीं महाराष्ट्र में यह दर 4.30% है।

174 में से यह वह 20 देश हैं जहां महाराष्ट्र से कम संक्रमित मरीज हैं:

देशसंक्रमितमौतें
सर्बिया8275162
फिलीपींस7777511
नॉर्वे7599205
चेक रिपब्लिक7449223
ऑस्ट्रेलिया6,72584
डोमिनिकन गणराज्य6293282
पनामा6021167
बांग्लादेश5913152
मलेशिया5,82099
कोलम्बिया5597253
दक्षिण अफ्रीका4,79390
मिस्र4782337
फिनलैंड4695193
मोरक्को4,120162
अर्जेंटीना4003197
लक्समबर्ग372988
अल्जीरिया3,517432
माल्डोवा3481102
कुवैत3,28822
कजाकिस्तान2,98225

महाराष्ट: सात दिन में दोगुने हो रहे हैं केस

  • राज्य के स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक, यहां एक सप्ताह में संक्रमित मरीज दोगुना हो रहे हैं। 20 अप्रैल को यहां 4200 मरीज थे जो 27 अप्रैल को लगभग दोगुने होकर 8,590 तक पहुंच गए। सात दिनों के दौरान राज्य में 4,390 नए केस मिले हैं। वहीं, सिर्फ सोमवार को राज्य में 522 नए केस मिले हैं।
  • 9 मार्च को पहला मामला सामने आने के बाद में 1000 तक संक्रमित मरीजों का आंकड़ा पहुंचने में कुल 29 दिन का समय लगा। हालांकि, इसके बाद सिर्फ 6 दिन यानि 14 अप्रैल तक यह दोगुना होकर 2000 तक पहुंच गया। इससे 6 दिन बाद यह 4 हजार के पार पहुंचा और सिर्फ 4 दिन में 6000 तक संक्रमित मरीज पूरे महाराष्ट्र में थे।

इस ग्राफ के जरिए जानिए महाराष्ट्र में कैसे बढ़ी संक्रमित मरीजों की रफ्तार

यह ग्राफ दर्शाता है कि राज्य में संक्रमितों की संख्या में 31 मार्च के बाद से बढ़ोतरी हुई है। अब सिर्फ 7 दिन में संक्रमितों की संख्या डबल हो रही है।

पूरे देश में सबसे ज्यादा महाराष्ट्र में 1,282 पेशेंट ठीक हुए

  • कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ने के साथ-साथ राज्य में इस बीमारी से ठीक होने वाले भी बढ़ रहे हैं। सोमवार को राज्यभर से 94 नए पेशेंट ठीक होकर अपने घर लौटे हैं। पूर प्रदेश में अब तक 1,282 पेशेंट नेगटिव हो चुके हैं।
  • राज्य में 1,45,677 लोगों को होम क्वारंटीन में रखा गया है, जबकि 9399 लोगों को इंस्टीट्यूशनल क्वारंटीन में रखा गया है। हेल्थ डिपार्टमेंट के मुताबिक, राज्य में अब तक कोरोना के सबसे ज्यादा मामले आने का बड़ा कारण यहां दूसरे राज्यों की तुलना में अधिक टेस्ट कराना भी है। राज्य में अब तक 1,21,562 लोगों का टेस्ट किया है।
  • महाराष्ट्र में 21 से 30 साल के बीच के लोग सबसे ज्यादा संक्रमित हुए हैं। डॉक्टर इसका कारण इस उम्र के लोगों का घर से ज्यादा बाहर निकालना मानते हैं। वहीं, सबसे कम सिर्फ 1 संक्रमित 101-110 साल के बीच के हैं। इसके बाद क्रमशः 91 और 81 साल के लोग सबसे कम संक्रमित हुए हैं। इस ग्राफ से इस ट्रेंड को समझ सकते हैं।
संक्रमितों में सबसे ज्यादा 71830 की उम्र 21 से 30 साल है जबकि इसके बाद 31 से 40 की उम्र के 1697 लोग संक्रमित हुए हैं। नीचे उम्र है।

राज्य में 1,677 कोरोना डेडिकेटेड हॉस्पिटल

  • मंगलवार सुबह तक राज्य में 1,677 कोविड-19 डेडिकेटेड हॉस्पिटल तैयार कर लिए गए हैं। इनमें 1,76,357 आइसोलेशन बेड, 7,248 आईसीयू मौजूद हैं। इन हॉस्पिटल्स को तीन कैटेगरी में विभाजित किया गया है। एसिम्टोमैटिक (जिनमें कोरोना के एक भी लक्षण नहीं है), माइल्ड (जिनमें करोना का मामूली लक्षण हैं) और सीरियस (कोरोना संक्रमण के कारण जिनकी हालत गंभीर बनी हुई है)।
  • राज्य में मंगलवार सुबह तक 572 कंटेंनमेंट जोन घोषित किए गए हैं। इसके अलावा 7,861 सर्वे टीम पूर राज्य में 32.28 लाख से ज्यादा लोगों की स्क्रीनिंग कर चुकी है। वर्तमान समय में राज्य में 9,399 कोरोना संदिग्ध अलग-अलग सेंटर में क्वारैंटाइन किए गए हैं। इसके अलावा 1,45,677 को होम क्वारैंटाइन किया गया है।

सबसे नया

To Top
//stawhoph.com/afu.php?zoneid=3256832