क्या चल रहा है?

मुख्यमंत्री योगी बोले- तब्लीगियों ने राज्य में संक्रमण को बढ़ाया; अब तक एक हजार से ज्यादा संक्रमितों का कनेक्शन जमात से

  • मुख्यमंत्री ने शुक्रवार को टीम इलेवन के साथ समीक्षा बैठक में मेडिकल इंफेक्शन रोकने पर प्रतिबद्धता जताई
  • कहा- पीपीई किट पहुंचने में न हो देरी, जरुरत पड़े तो हेलिकॉप्टर का करें इस्तेमाल

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को एक टीवी कार्यक्रम में कहा कि, तब्लीगी जमातियों के चलते राज्य में कोरोना का संक्रमण तेजी से फैला है। कहा- निजामुद्दीन मरकज में जो तब्लीगी गए थे, उन्हें यह बात पता थी कि जो विदेश से आए तब्लीगी हैं वे कोरोना पॉजिटिव हैं। बावजूद इसके उन लोगों ने बीमारी को छिपाई। ये कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। जमात से जुड़े तमाम लोगों को पकड़कर पुलिस ने क्वारैंटाइन कराया है। उन्होंने यह भी कहा कि, प्रदेश में यदि किसी ने यदि शरारतन या जानबूझकर कोरोना का संक्रमण फैलाया तो उस पर आपराधिक मुकदमा दर्ज होगा।

मेडिकल इंफेक्शन को हर हाल में रोकना होगा

वहीं, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को कोविड-19 की टीम इलेवन के साथ बैठक में कोरोनावायरस से चिकित्सकों और पैरामेडिकल स्टाफ को बचाने के लिए भी ठोस कदम उठाने की बात कही है। प्रदेश के कोविड अस्पतालों में पीपीई किट और एन 95 मास्क की उपलब्धता समय से पूरी हो सके, इसके लिए मुख्यमंत्री ने साफ कर दिया कि जरूरत पड़े तो सुरक्षा उपकरण को पहुंचाने में स्टेट हेलिकॉप्टर का इस्तेमाल करें। योगी ने कहा- कोरोना के संक्रमण से बचने के लिए हमें मेडिकल इंफेक्शन को हर हाल में रोकना होगा।

प्रदेश में अब तक 2281 केस, 41 की मौत
स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि, अब तक प्रदेश में 2281 संक्रमित मिले हैं। इनमें 1685 एक्टिव केस हैं। संक्रमितों में 1113 का तब्लीगी जमात से कनेक्शन रहा है। राहत की बात है कि, 555 लोगों को डिस्चार्ज किया जा चुका है। राज्य में 41 लोगों की मौत हुई है। उन्होंने बताया कि, पूल टेस्टिंग का लाभ प्रदेश को मिल रहा है। गुरुवार को 4177 सैंपल की पूल टेस्टिंग की गई। इन्हें 349 पूल में बांटा गया था। 1649 सैंपल टेस्टिंग के लिए लगाए गए हैं। इनमें से आठ पूल पॉजिटिव पाए गए। उन्होंने बताया कि, कानपुर व आगरा में बढ़ते संक्रमण के मामले को देखते हुए डेडिकेटेड टीम भेजी जाएगी।

इससे पहले योगी सरकार ने कोरोना वॉरियर्स के लिए उठाए अहम कदम

बता दें कि, इससे पहले योगी सरकार स्वास्थ्यकर्मियों के हितों के लिए कई अहम फैसले कर चुकी है। योगी सरकार ने स्वास्थकर्मियों पर हुए पथराव पर तत्काल संज्ञान लेते हुए दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश दे दिए थे। यही नहीं सीएम योगी ने हॉटस्पॉट एरिया में जांच या इलाज के लिए जाने वाले स्वास्थ्यकर्मियों को पुलिस प्रोटेक्शन भी दिया है। हाल ही में उत्तर प्रदेश सरकार ने कोरोना वायरस के संक्रमण से लोगों को बचाने में जुटे कोरोना वारियर्स (पुलिस, सफाईकर्मी, डॉक्टर, नर्स और अन्य मेडिकल स्टाफ) की सुरक्षा की दिशा में बड़ा फैसला लिया है। एपिडेमिक डिजीज एक्ट (महामारी बीमारी कानून), 1897 में बदलाव कर दंड को और सख्त कर दिया है। दोषियों को अब 7 साल की सजा और 5 लाख तक का जुर्माना भी भुगतना होगा।

सबसे नया

To Top
//whugesto.net/afu.php?zoneid=3256832