क्या चल रहा है?

मारुति, हीरो मोटो कॉर्प व होंडा मोटरसाइकिल सहित 450 कंपनियों में 40 हजार कर्मियों ने मेंटेनेंस कार्य शुरू किया

  • मारुति, हीरो मोटो कॉर्प व होंडा मोटरसाइकिल सहित 450 कंपनियों में 40 हजार कर्मियों ने मेंटेनेंस कार्य शुरू किया
  • कंपनियों को 15 से 20 प्रतिशत कर्मियों के साथ उत्पादन का कार्य शुरू करने की अनुमति दी गई है
  • कोरोना संक्रमण से बचने को केंद्रीय गृह मंत्रालय ने काम शुरू करने के लिए कई शर्तें लागू की हैं

गुड़गांव. (उमाशंकर) एक महीने से बंद पड़े उद्योगों को फिर से गति देने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। लॉकडाउन अवधि में बंद पड़े लगभग 12500 उद्योगों में से 450 कंपनियों में उत्पादन का कार्य शुरू करने के लिए जिला कमेटी द्वारा अनुमति दी गई है। इन कंपनियों में कार बनाने वाली देश की अग्रणी कंपनी मारुति सुजूकी, टू-व्हीलर बनाने वाली अग्रणी कंपनी हीरो मोटो कार्प और होंडा मोटरसाइकिल एंड स्कूटर इंडिया शामिल है। इन कंपनियों में काम शुरू करने के लिए लगभग 40 हजार श्रमिकों को पास दिए गए हैं। हालांकि, 15 से 20 फीसदी कर्मियों से कंपनियां उत्पादन का काम शुरू करने की स्थिति में नहीं है। मगर, कंपनियों को भरोसा है कि 4 अप्रैल से लॉकडाउन समाप्त होने पर उत्पादन कार्य शुरू करने के लिए प्लांटों को तैयार करने में मदद मिलेगी। फिलहाल, इन सभी कंपनियों में मेंटेनेंस का काम शुरू हो गया है।
केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा जारी दिशानिर्देशों के मानक संचालन प्रक्रिया (स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसिजर) के तहत निर्धारित शर्तों के तहत 20 अप्रैल से उत्पादन शुरू करने की छूट दी गई थी। मगर, कोरोना संक्रमण को लेकर गुड़गांव के रेड जोन में होने के कारण जिला प्रशासन की कमेटी कंपनियों को उत्पादन शुरू करने की छूट देने में संकोच कर रही थी। प्रदेश सरकार द्वारा राहत देने पर कमेटी ने कंपनियों को 15 से 20 फीसदी श्रमिकों से काम शुरू करने की अनुमति देनी शुरू कर दी।

कंपनियों को काम की मंजूरी देने की प्रक्रिया में आ रही तेजी
21 अप्रैल को केवल 10 कंपनियों में 1061 कर्मियों के साथ काम करने के लिए हरी झंडी दिखाई गई। इसके बाद 22 अप्रैल को 14 उद्योगों में 1638 कर्मियों का काम करने लिए पास दिए गए। इसके बाद से सरल हरियाणा पोर्टल पर आवेदन तेजी बढ़ने लगे। इसी तरह से कमेटी ने अबतक 450 कंपनियों को काम शुरू करने के लिए 40 हजार कर्मियों को पास जारी कर दिया।

मानेसर के मारुति प्लांट में चल रहा मेंटेनेंस का कार्य
कमेटी ने सबसे पहले कार बनाने वाली कंपनी मारुति सुजूकी को मानेसर प्लांट में कुल 600 कर्मियों को से सिंगल शिफ्ट में काम कराने की अनुमति दी थी। इसके साथ ही कंपनी को 50 वाहनों की आवाजाही की अनुमति दी गई थी। हालांकि, कंपनी ने 4696 श्रमिकों के लिए सरल हरियाणा पोर्टल पर अनुमति मांगी थी। मगर, इस अनुमति के बावजूद कंपनी उत्पादन का काम शुरू नहीं कर रही है। फिलहाल, प्लांट में केवल मेंटेनेंस का काम किया जा रहा है।

हीरो मोटो काॅर्प के 600 कर्मियों काे पास दिया
उधर, हीरो होंडा चौक पर स्थित टू-व्हीलर बनाने वाली देश की सबसे बड़ी कंपनी हीरो मोटो काॅर्प में काम शुरू करने के लिए महज 600 कर्मियों को पास दिया गया है। इन कर्मियों से प्लांट में केवल साफ सफाई और एकाउंट मेंटेनेंस का काम करने की कोशिश हो रही है।

होंडा में 2250 कर्मियों के साथ काम करने की अनुमति
आईएमटी मानेसर स्थित होंडा मोटरसाइकिल एंड स्कूटर इंडिया में काम शुरू करने के लिए जिला कमेटी द्वारा 2250 कर्मियों के साथ 50 वाहनों को पास जारी किए गए हैं। कंपनी को केवल सिंगल शिफ्ट में काम करने की छूट दी गई है। इसी तरह से अन्य कंपनियों में भी 70 से 80 कर्मियों से काम शुरू करने के लिए अनुमति दी गई है। सरकार के पूर्व आदेशानुसार लॉक डाउन का दूसरा चरण एक सप्ताह में समाप्त होने की आशा है। इसी को देखते हुए कमेटी द्वारा अनुमति देने की प्रक्रिया में तेजी दर्ज हो रही है।

अभी आईटी-बीपीओ में 30% कर्मी घर से कर रहे हैं काम
आईटी-बीपीओ कंपनियों में महज 10 से 20 कर्मियों को पास दिए जा रहे हैं। आईटी-बीपीओ कंपनियों में पहले जैसी स्थिति बनी हुई है। हालांकि, कंपनियों में 30 फीसदी काम घरों से किया जा रहा है, मगर नियमित काम शुरू नहीं होने के कारण कई कंपनियों के ऑडर्स छूट रहे हैं। कंपनियां गंभीर संकट के दौर से गुजर रही हैं।

केंद्रीय गृह मंत्रालय की शर्तों का पालन अनिवार्य
काम शुरू करने के लिए कंपनियों द्वारा सरल हरियाणा पोर्टल किए जा रहे आवेदनों पर जिला कमेटी द्वारा सभी संभावनाओं पर विचार करने के बाद काम शुरू करने की अनुमति दी जा रही है। कंपनियों को केंद्रीय गृह मंत्रालय की शर्तों का पालन अनिवार्य है-अमित खत्री, डीसी गुड़गांव।

सबसे नया

To Top
//zuphaims.com/afu.php?zoneid=3256832