क्या चल रहा है?

मरीजाें के सांस की नली में ट्यूब लगाते हैं, पिछले दाे महीने से घर नहीं गए

  • चिकित्साकर्मी अपने परिवार से दूर रहकर कोरोना संक्रमण के बीच मरीजों का कर रहे उपचार

पाली. काेराेना काे हराने के लिए पाली के शहर कस्बों के साथ-साथ छाेटे-छाेटे गांवों के हाेनहार याेद्धा राजस्थान सहित अन्य राज्याें में काेराेना काे हराने के लिए दिन-रात काम कर रहे हैं। खास बात यह कि काेराेना महामारी के दाैरान ज्यादातर चिकित्साकर्मी अपने परिवार से दूर हैं। काेई एक माह से परिवार से नही मिला ताे किसी काे दाे माह हाे गए घर गए। विकट परिस्थितियों में ये काेराेना याेद्धा गांव के साथ-साथ अपने जिले का भी नाम राेशन कर रहे हैं। काेई स्क्रीनिंग कर रहा ताे काेई सैंपल ले रहा। पाॅजिटिव मरीजाें का उपचार भी कर रहे हैं।

अहमदाबाद में काेराेना थियेटर में काम कर रहे संदीप
पाली के संदीप बलवंशी अहमदाबाद के सरदार वल्लभ भाई पटेल में कोराेना डिपार्टमेंट ऑपरेशन थियेटर में सहायक के पद पर कार्यरत है। काेराेना के मरीजों काे सबसे ज्यादा सांस लेने में ही दिक्कताें का सामना करना पड़ता है। ऐसे मरीजाें काे बचाने के लिए संदीप बलवंशी मरीज को इंट्यूबेट करते हैं। जिनको सांस लेने में ज्यादा समस्या होती है, उनके सांस की नली में ट्यूब लगाते हैं। राेजाना ऐसे मरीज आते हैं।
मांडावास के राजू झालावाड़ में आइसाेलेशन वार्ड में दे रहे सेवाएं 
मांडावास गांव के निवासी राजू जांगिड़ झालावाड़ मेडिकल कॉलेज में कोराेना के आइसोलेशन वार्ड में अपनी सेवा दे रहे हैं। झालावाड़ में ये पत्नी और 3 साल के बच्चे रोहन के साथ रहते हैं। 18 से 24 अप्रैल तक इन्होंने सेवा दी, जिसके बाद उनकी कोराेना जांच की गई। जांच ताे निगेटिव आई लेकिन 8 मई तक इन्हें भी क्वारेंटाइन किया गया है। 18 अप्रैल से अभी तक घर नही गए है पत्नी और बच्चों के साथ वीडियो काॅल से ही बात करते हैं।
काेराेना संदिग्ध मरीजों की स्क्रीनिंग करते हैं पुखराज 
पाली के पुखराज पालीवाल जोधपुर के एम्स हॉस्पिटल के कोराेना वार्ड में नर्सिंग स्टाफ के पद पर कार्यरत हैं। वे काेराेना के मरीजों की स्क्रीनिंग का कार्य करते हैं। जोधपुर में पत्नी और बच्चों के साथ रहते हैं। काेराेना काे हराने के लिए परिवार काे भी ननिहाल भेज दिया है, ताकि संक्रमण का खतरा नहीं रहे। पुखराज बताते हैं कि वर्तमान में सेवा ही सर्वाेपरि है। यह माैका मिला, ताकि आपदा का सामना कर सके।
सेसली के मेलनर्स अहमदाबाद में काेराेना मरीजाें का कर रहे इलाज
सेसली के नरेश अहमदाबाद में एक महीने से काेराेना मरीजाें की सेवा में याेद्धा की तरह काम कर रहे हैं। नरेश कुमार मेल नर्स पद पर कार्यरत हैं। सरदार वल्लभ भाई पटेल अस्पताल में सेवा दे रहे हैं। यह देश का पहला अस्पताल है। जहां कोरोना रोगियों पर पहली प्लाज्मा थेरेपी का प्रयोग किया गया। अभी तक उनके पास 50 से ज्यादा मरीजों की सेवा कर चुके हैं। परिवार के सदस्यों से वीडियाें काॅल पर ही बात करते हैं।

सबसे नया

To Top
//stawhoph.com/afu.php?zoneid=3256832