क्या चल रहा है?

मधेपुरा से आए 12 लोग रक्सौल पहुंचे 10 को आदापुर में किया क्वारेंटाइन

  • आदापुर के 9, रामगढ़वा के 1 व नरकटियागंज से 1 व्यक्ति था शामिल

मोतीहारी. मधेपुरा से लोगों की टोली को लेकर आई बस शनिवार की सुबह करीब 4 बजे रक्सौल पहुंची। बस में रक्सौल अनुमंडल के आदापुर व रामगढ़वा के 11 लोग सवार थे। सुबह जब बस कौड़िहार चौक पर पहुंची और कुछ ही देर में शहर में इस बात की चर्चा हो गई कि लोगों को लेकर एक बस रक्सौल आई है। हालांकि प्रशासन बस को लेकर ब्लॉक परिसर में चली गई। इस दौरान ब्लॉक रोड के आसपास के इलाके में लोग काफी सहमे हुए दिख रहे थे।
सुबह 4 बजे से लेकर दिन के करीब 12:30 बजे तक बस ब्लॉक परिसर में खड़ी रही। प्रशासन ने उन लोगों को बस से बाहर नहीं निकलने दिया। अधिकारियों के चर्चा के बाद उनकी जांच कराई गई। फिर सभी को उनके संबंधित  प्रखंड में क्वारेंटाइन के लिए भेजा गया। इसकी जानकारी देते हुए अनुमंडल पदाधिकारी अमीत कुमार ने बताया कि जिला प्रशासन मधेपुरा के द्वारा वहां पर क्वारेंटाइन का समय पूरा होने के बाद पास जारी कर सभी लोगों को रक्सौल अनुमंडल के लिए भेजा गया था। चूकि सुरक्षा के ख्याल रखते हुए जिला प्रशासन मोतिहारी की ओर से इन्हे संबंधित  प्रखंड में ही क्वारेंटाइन करने का निर्णय लिया गया है। जिसके बाद बस में सवार आदापुर के 9 लोग, रामगढ़वा के 1 और नरकटियागंज के एक व्यक्ति को उनके पंचायत के सेंटर पर भेज दिया गया है।

क्वारेंटाइन कर सभी का लिया गया था सैंपल 

आदापुर| मधेपुरा में क्वारेंटाइन के उपरांत प्रशासनिक अभिरक्षा में रक्सौल पहुंचे 10 लोगों को शनिवार को पुनः 14 दिनों के लिए आईसोलेशन केंद्र पर शिफ्ट किया गया है। इन सभी लोगों को श्यामपुर बाजार स्थित मिडिल स्कूल बालक में स्थापित केंद्र पर सभी को क्वारेंटाइन में रखा गया। इस बावत बीडीओ आशीष कुमार मिश्र ने बताया कि उक्त सभी गत मार्च माह में नेपाल में हुए धार्मिक आयोजन में हिस्सा लेने के निकले थे। इसके बाद लॉक डाउन की घोषणा के दौरान वे सभी मधेपुरा में ही फंस गए थे। जहां स्थानीय प्रशासन के द्वारा उन्हें 14 दिनों तक क्वारेंटाइन में रखकर सभी का सैंपल जांच करवाया गया। जिसमें सभी का रिपोर्ट निगेटिव आई है।

सशस्त्र बल की टीम तैनात
वहींं ब्लॉक रोड में बस पहुंचने की खबर के बाद नगर इंस्पेक्टर अभय कुमार सिंह के नेतृत्व में सअनि संजय कुमार सिंह के साथ सशस्त्र बल की एक टीम वहां पर तैनात कर दी गयी थी। सुबह में काफी देर तक अनुमंडल पदाधिकारी के आवास पर इसको लेकर मंथन किया गया। इसके बाद निर्णय हुआ कि इन लोगों को पंचायत में भेजा जाएगा। बस के चालक मो. कासिम ने बताया कि जिलाधिकारी मधेपुरा के आदेश पर हमलोग बस लेकर यहां पर आए थे।

सबसे नया

To Top
//luvaihoo.com/afu.php?zoneid=3256832