क्या चल रहा है?

मथुरा में पुलिस टीम पर लाठी-डंडे से हमला; पथराव में होमगार्ड घायल, महिला समेत 11 आरोपी गिरफ्तार

  • मथुरा के थाना गोवर्धन क्षेत्र के भीमनगर गांव में खुली थी दुकानें, लोग इकट्ठा होकर खेल रहे थे जुआ
  • पुलिस ने हमलावरों को खदेड़कर संभाली स्थिति, आरोपियों की तलाश जार

मथुरा. उत्तर प्रदेश में लॉकडाउन के बीच पुलिस पर हमले थम नहीं रहे हैं। शुक्रवार को मथुरा जिले में लॉकडाउन का उलंघन कर दुकान खोलने व एक स्थान पर कई लोगों को जमा होकर जुआ खेलने की सूचना पर पहुंची पुलिस टीम पर लोगों ने लाठी-डंडे से हमला कर दिया। पुलिस ने जवाबी कार्रवाई शुरू की तो उन पर पथराव कर दिया गया। पुलिस बल प्रयोग कर स्थिति पर काबू पाया है। एक महिला समेत 11 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। हमले में एक होमगार्ड लेखराज को गंभीर चोटें आई हैं। फोर्स लगातार मार्च कर रही है। हमलावर मौके से फरार हो गए हैं। पुलिस उनकी तलाश कर रही है।

पुलिस के पहुंचने पर मची भगदड़

ये मामला मथुरा जनपद के थाना गोवर्धन के गांव भीमनगर का है। थाना अध्यक्ष को शुक्रवार की दोपहर सूचना मिली कि, लॉकडाउन के बीच यहां दुकानें खुली हुई हैं। काफी लोग इकट्ठा होकर जुआ खेल रहे हैं। आरोपियों को पकड़ने के लिए पुलिस भीमनगर पहुंची तो पूरे गांव में भगदड़ मच गई और पुलिस पार्टी पर गांव के लोगों ने मिलकर लाठी-डंडों से हमला कर दिया। पुलिस टीम पर पथराव कर दिया गया।

जैसे ही इसकी सूचना पुलिस प्रशासन को हुई, तुरंत पुलिस फोर्स हरकत में आ गई। क्षेत्राधिकारी जितेंद्र सिंह के साथ मौके पर पहुंची फोर्स ने 10 व्यक्ति और एक महिला को मौके से गिरफ्तार कर लिया गया। कानून व्यवस्था को बहाल किया गया है। क्षेत्राधिकारी लोकेश सिंह भाटी, जितेंद्र सिंह, एसडीएम राहुल यादव ने फोर्स के साथ क्षेत्र में कांबिंग की और सुरक्षा व्यवस्था को बनाए रखने की ग्रामीणों से अपील की गई।

लॉकडाउन में लगातार हो रहे पुलिस पर हमले
10 अप्रैल: झांसी जिले के नवाबाद थाना क्षेत्र में स्थित मुर्गा बाजार में जुटी भीड़ को हटाने के लिए पीआरवी 368 प्रयास कर रही थी। इसी दौरान लोग पुलिस टीम से उलझ गए और हाथापाई की कोशिश की। इस दौरान दो लोगों को हिरासत में लिया गया, जो आपस में भाई हैं। पुलिस अन्य आरोपियों की तलाश में दबिश दे रही है।
6 अप्रैल: बरेली में गांव करमपुर चौधरी में तब्लीगी जमात से जुड़े लोगों के होने की सूचना पर दोपहर दो सिपाही पहुंचे थे। सिपाही लोगों से जानकारी कर रहे थे, लेकिन लोगों ने असहयोग किया और हाथापाई की। इसके बाद भीड़ ने पुलिस बैरियर वन चौकी में आगजनी करने की कोशिश की थी।
3 अप्रैल: कन्नौज में एक मकान की छत पर सामूहिक नमाज पढ़ी गई। पुलिस ने उन्हें समझाने का प्रयास किया तो फावड़े व कुल्हाड़ी से हमला किया गया। इस दौरान एलआईयू सिपाही, चौकी इंचार्ज समेत चार पुलिस कर्मियों को गंभीर चोटें आई थीं।
29 मार्च: आगरा में पिनाहट थाना क्षेत्र के भदरौली कस्बे में रविवार की दोपहर भीड़ ने दो सिपाहियों पर हमला कर दिया। लॉकडाउन का उलंघन कर रहे लोगों को ये सिपाही सोशल डिस्टेंसिंग के बारे में समझा रहे थे। भीड़ ने सिपाहियों की पीटा। सिपाही जसपाल व योगेंद्र को भाग कर अपनी जान बचानी पड़ी।

Source :www.bhaskar.com

सबसे नया

To Top
//azoaltou.com/afu.php?zoneid=3256832