क्या चल रहा है?

बेंगलुरु की कंपनी ने बनाई टेस्टिंग किट, 60 मिनट में पता चल जाएगा कोरोना है या नहीं

  • टेस्ट के लिए अस्पताल में आने की आवश्यकता नहीं
  • टेस्टिंग किट का पूरा सेटअप सिर्फ 2 मशीनों से बना है

बेंगलुरु की एक कंपनी ने अपनी कोरोना वायरस टेस्टिंग किट के लिए इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) की मंजूरी हासिल कर ली है. यह ​टेंस्टिंग किट 60 मिनट के भीतर बता देगी कि आपको क्रोरोना का संक्रमण है या नहीं है.

इस किट की मदद से अगर किसी का परीक्षण किया जाता है तो उसी दिन रिजल्ट आ जाएगा. इससे स्वास्थ्य विभाग को कोरोना संक्रमण का परीक्षण करने, तुरंत परिणाम प्राप्त करने और संक्रमित व्यक्ति को चिन्हित करके उसे आइसोलेट करने में मदद मिलेगी.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

मोल्बियो डायग्नोस्टिक्स प्राइवेट लिमिटेड द्वारा बनाई गई इस परीक्षण किट को कहीं भी लाया ले जाया जा सकता है. इसके लिए मरीज को परीक्षण कराने के लिए किसी खास अस्पताल में आने की आवश्यकता नहीं है.

मोल्बियो डायग्नोस्टिक्स प्राइवेट लिमिटेड के मुख्य तकनीकी अधिकारी डॉ चंद्रशेखर नायर ने इंडिया टुडे को बताया कि इस उपकरण का उपयोग पहले से ही गोवा और आंध्र प्रदेश में टीबी के मामलों का परीक्षण करने के लिए किया जा रहा है. अब covid-19 का परीक्षण करने के लिए भी इसका उपयोग किया जाएगा. उनकी कंपनी कर्नाटक सरकार के साथ यहां परीक्षण शुरू करने के लिए बातचीत कर रही है.

इस टेस्टिंग किट का पूरा सेटअप सिर्फ 2 मशीनों से बना है. डॉ नायर के अनुसार, मरीज से नमूना लेकर पहली मशीन में डाला जाता है. कुल न्यूक्लिक एसिड निकाल लिया जाता है और उनमें अवरोधकों को हटा दिया जाता है. यह कुल 20 मिनट का काम है, इतने में सैंपल तैयार हो जाता है. अब एक रासायनिक पदार्थ को न्यूक्लिक एसिड में जोड़ा जाता है और फिर एक चिप पर रखकर दूसरी मशीन में डाला जाता है. यह एक बैटरी संचालित, फील्ड में प्रयोग करने योग्य उपकरण है.

इस किट से प्रत्येक परीक्षण की लागत 1,350 रुपये से कम है. डॉ नायर का कहना है, ‘हमारा मानना है कि इसकी मदद से जब और जहां जरूरत होगी, हम मांग के आधार पर अपनी परीक्षण क्षमताओं का विस्तार करके परीक्षण सुविधा मुहैया करा सकते हैं.’

 

सबसे नया

To Top
//zuphaims.com/afu.php?zoneid=3256832