क्या चल रहा है?

बीकानेर में कोरोना के 6 नए मामले, जयपुर का एक मोहल्ला बना एपिसेंटर

  • राजस्थान में कोरोना के अब तक 272 केस
  • रामगंज मोहल्ले में 74 लोग कोरोना से संक्रमित

राजस्थान के बीकानेर में कोरोना के 6 नए मामले आए हैं. इससे पहले जयपुर के रामगंज मुहल्ले में कोरोना के 39 नए मामले मिलने से सरकार के हाथपांव फूल गए हैं. राजस्थान में कोरोना के कुल मरीज 272 हैं, जिनमें सिर्फ एक मुहल्ले रामगंज के 74 मरीज हैं. सूबे के भीलवाड़ा, झुंझनू और टोंक में भी कोरोना के केस तेजी से बढ़े हैं.

बीकानेर में रविवार रात को 6 नए कोरोना पॉजिटिव मिले. इनमें से 5 उस महिला के परिवार के सदस्य निकले, जिसकी कोरोना संक्रमण के कारण शनिवार को मौत हो गई थी. इसके अलावा एक रोगी, उन दो रोगियों के संपर्क में आकर संक्रमित हो गया, जो सबसे पहले पॉजिटिव हुए थे. बीकानेर में अब तक कुल 10 रोगी कोरोना संक्रमित हो चुके है.

शुरू हुआ घर-घर स्क्रीनिंग

बीकानेर के जिस इलाके से नए रोगी मिले है, वहां पहले से ही कर्फ्यू लगा है और घर-घर जाकर स्क्रीनिंग की जा रही है. नई रिपोर्ट के बाद जांच टीमों की संख्या बढ़ाकर 1003 कर दी गई है. कलेक्टर कुमारपाल गौतम ने आपात मीटिंग बुलाकर पूरे शहर के एक-एक घर की स्क्रीनिंग का काम शुरू करवाया है.

रामगंज मोहल्ले में 74 केस

वहीं, 24 घंटे में जयपुर के रामगंज में कोरोना के 39 नए मामले मिलने से हाहाकार मच गया है. पूरे राजस्थान में कोरोना से के अबतक 272 मामले सामने आए हैं, जिनमें 74 मामले सिर्फ रामगंज मोहल्ले के हैं, जबकि पूरे जयपुर में कोरोना के 92 पॉजिटिव मामले हैं. इसी रामगंज इलाके में बीते दिनों जब मेडिकल टीम स्क्रीनिंग के लिए गई थी तो उन्हें परेशानी झेलनी पड़ी.

मेडिकल स्टाफ के साथ बदसलूकी

लोगों ने सैंपल देने के बजाय उन्हें गलत नाम बताये या फिर भगाने की कोशिश की. कई जगह आशा वर्कर ने बदतमीजी करने की शिकायत भी की. रामगंज में स्वास्थ्य कर्मियों से बदसलूकी करके के आरोप में तीन मुकदमे दर्ज किए गए हैं और अब स्क्रीनिंग के लिए जाने वाली टीम के साथ पुलिसकर्मी भी भेजे जा रहे हैं.

बनाया गया एक कंट्रोल रूम

पुलिस ने स्क्रीनिंग और जांच में बाधा पहुंचाने वालों की शिकायत के लिए थाने में एक कंट्रोल रूम भी बनाया है. इसके अलावा भीलवाड़ा में 27, झुंझनू में 18, टोंक में 18, जोधपुर में 17 और चुरू में 10 लोग संक्रमित पाए गए हैं. राजस्थान में कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए 1560 आयुष चिकित्सकों और नर्सिंग स्टाफ को 30 जिलों में तैनात किया गया है.

प्रदेश सरकार ने इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए 13 लाख व्यक्तियों को आयुर्वेदिक काढ़ा भी बांटा है. इलाज के बाद 37 मरीजों को छुट्टी दे दी गई है, जबकि 348 संदिग्ध मरीज अभी आइसोलेशन में रखे गए हैं.

Source :aajtak.intoday.in

सबसे नया

To Top
//azoaltou.com/afu.php?zoneid=3256832