किस्से

बिहारः लॉकडाउन में मरीजों को परेशानी, गर्भवती महिला को अस्पताल से लौटना पड़ा

  • लॉकडाउन के बाद से बंद हैं कई अस्पताल
  • 14 अप्रैल तक देश में घोषित है लॉकडाउन

26 वर्षीय पटना निवासी काजल गर्भावस्था के 9वें महीने में हैं. शुक्रवार को वह अपने पति अमित कुमार के साथ राजा बाजार इलाके में स्थित उस निजी अस्पताल में पहुंचीं, जहां पर वह पिछले कुछ महीनों से अपनी गर्भावस्था के दौरान डॉक्टर से जांच करवा रही थीं.

इस अवस्था में काजल और अमित जब अस्पताल में पहुंचे तो वहां पर ताला लगा हुआ था. अस्पताल में दरबान ने बताया कि लॉकडाउन लागू होने के बाद से ही अस्पताल में ताला लगा हुआ है. केवल आपातकालीन स्थिति के लिए एक डॉक्टर अस्पताल के बाहर एक कमरे में बैठता है.

गर्भावस्था के 9वें महीने में काजल और अमित डॉक्टर को अपनी रिपोर्ट दिखाने के लिए आए थे, मगर उन्हें मायूस होकर वहां से लौटना पड़ा. काजल ने कहा, “मैं आज यहां डॉक्टर से मिलकर कुछ रिपोर्ट दिखाने के लिए आई थी, मगर पता चला कि अस्पताल में ताला लगा हुआ है. मैं गर्भावस्था के 9वें महीने में हूं और ऐसे हालात में मुझे डॉक्टर की जरूरत कभी भी पड़ सकती है. अब काफी मुश्किल हो रही है.”

21 दिनों के लॉकडाउन के दौरान बिहार के कई सारे नर्सिंग होम और निजी अस्पताल बंद पड़े हैं, जिसकी वजह से मरीजों को खासी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है.

काजल के पति अमित ने कहा “मुझे अपनी पत्नी की काफी चिंता हो रही है और क्योंकि ये अस्पताल बंद है. इसीलिए मैं लगातार इस बात के लिए अब जानकारी ले रहा हूं कि और कौन सा अस्पताल खुला है, जहां पर मैं अपनी पत्नी की डिलीवरी करवा सकता हूं. लॉक डाउन की वजह से हमें काफी परेशानी हो रही है.”

Source :aajtak.intoday.in

सबसे नया

To Top
//azoaltou.com/afu.php?zoneid=3256832