क्या चल रहा है?

प्रवासियों को शपथ-पत्र भरा कर छोड़ दिया जा रहा हैै, लोग पैदल जाने को हो रहे मजबूर

नवादा. जिले में लगातार कोरोना वायरस के मामले बढ़ रहें है। लेकिन जिला प्रशासन द्वारा सावधानी नहीं बरती जा रही है। जिले में प्रतिदिन सैकड़ों की संख्या में प्रवासी पहुंच रहें है। लेकिन प्रशासन अपना ड्यूटी कर इतिश्री कर रहें है। जहां प्रवासियों को शपथ-पत्र भराने के बाद छोड़ दिया जा रहा हैै। जिले में अगर यहीं हाल रहा तो कोरोना वायरस का चेन तोड़ना मुश्किल हो जाएगा। ताजा मामला शुक्रवार की सुबह आइटीआई परिसर में बनाए गए क्वारेंटाइन सेंटर से आया है। सुबह में पटना से कुछ प्रवासी को आइटीआई क्वारेंटाइन सेंटर में लाया गया था।

जो जिले के अलग-अलग प्रखंड के रहने वाले थे। लेकिन क्वारेंटाइन सेंटर में मौजूद लोगो ने प्रवासियों को दो-तीन घंटा रखने के बाद शपथ पत्र भराने के बाद उसे घर जाने को छोड़ दिया। शपथ पत्र भरने के बाद लोग पैदल अपने गांव के लिए निकल पड़े।

इसी दौरान एक युवक से मुलाकत हुई जो अपने कंधें पर भारी
भरकम थैला और हाथ में एक थैल लटकाए एक आइटीआई परिसर से निकल रहा था।  बताया कि सुबह में पटना से क्वारेंटाइन में लाया गया था। लेकिन सेंटर से वारिसलीगंज जाने के लिए कोई वाहन नहीं दी गई। सेंटर में मौजूद लोगो ने वाहन के इंतजार में घंटो बैठा कर रखा। लेकिन वाहन की व्यवस्था नहीं की गई। इसके बाद क्वारेटाइन सेंटर में मौजूद लोगो ने शपथ पत्र भराया। शपथ भरने के बाद जाने के लिए कहा गया।

इसके अलावा 14 दिन तक होम क्वारेंटाइन रहने को कहा गया है। जबकि पटना में कहा गया कि वाहन से घर तक छोड़ दिया जाएगा। लेकिन यहां जिला प्रशासन द्वारा प्रवासियों के साथ सिर्फ खानापूर्ति किया जा रहा है और सभी को अपने हाल पर छोड़ दिया जा रहा है।

सबसे नया

To Top
//azoaltou.com/afu.php?zoneid=3256832