क्या चल रहा है?

पुलिस, डॉक्टर व अधिवक्ता के समन्वय से हेपेटाइटिस-बी के मरीज तक पहुंची दवा

कैमूर. कोविड-19 संक्रमण और सख्ती से लागू लॉकडाउन के बीच यूपी पुलिस, डाॅक्टर, अधिवक्ता और बिहार पुलिस के सामूहिक प्रयास व समन्वय से  हेपेटाइटिस-बी लीवर संक्रमण से गंभीर रुप से बीमार बिहार के रोहतास जिले के दावथ प्रखंड अंतर्गत हमीर डिहरी गांव निवासी सज्जन सिंह यादव तक ( ड्युराटेफ-25 mg) दवा पहुंच पाई। हुआ यूं कि लॉकडाउन के चलते  दवा उपलब्ध न होने के चलते बीएचयू से इलाज करा रहे हेपेटाइटिस-बी वायरस संक्रमण के शिकार रोगी सज्जन सिंह के लीवर संक्रमण का खतरा गहराने लगा। ऐसे में रोगी के पुत्र संतोष कुमार ने उच्च न्यायालय अधिवक्ता सौरभ तिवारी से मदद कि गुहार लगायी। ऐसे में अधिवक्ता सौरभ तिवारी ने अपने ट्विटर अकाउंट से बिहार पुलिस से इस संबंध में मदद मांगा। ऐसे में रोगी के परिजन पुलिस के सहयोगी रवैये से मोटर साईकिल से लगभग 200 किलोमीटर के सफर पर वाराणसी के लिए निकल पड़े। ऐसे में नौबतपुर पुलिस चेकपोस्ट पर चंदौली पुलिस ने रोगी के परिजन को यूपी में प्रवेश पर साफतौर पर मना कर दिया। ऐसे में अपने ट्विटर अकाउंट से सुबह लगभग 6 बजे अधिवक्ता सौरभ तिवारी ने यूपी 112 और यूपी पुलिस को टैग करते हुए एक बार फिर मदद मांगी।  जबकि इस पूरे प्रकरण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले डाक्टर अभिलाष सिंह रामनगर के कटरियाँ पुलिस चौकी(जिला-चंदौली)  पर दवा लेकर रोगी के परिजनों का इंतजार कर रहे थे। तत्पश्चात अधिवक्ता और डॉक्टर के अनुरोध पर यूपी डायल 112 और चंदौली पुलिस हरकत में आयी एवं आपसी समन्वय व अनुमति के पश्चात रोगी के परिजन कटरियां पुलिस चौकी रामनगर पहुंचे और डाक्टर से पुलिस के समक्ष सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए दवा प्राप्त किया।

सबसे नया

To Top
//stawhoph.com/afu.php?zoneid=3256832