क्या चल रहा है?

दिल्ली: होटल क्वारनटीन की मांग को लेकर LNJP हॉस्पिटल के स्टाफ का प्रदर्शन

  • सरकार ने LNJP को घोषित किया कोरोना हॉस्पिटल
  • मेडिकल स्टाफ का आरोप- हमारी बात नहीं सुन रहे मंत्री

दिल्ली में कोरोना से जंग लड़ रहे मेडिकल स्टाफ गुरुवार को प्रदर्शन करने के लिए मजबूर हुए. बताया जा रहा है कि एलएनजेपी हॉस्पिटल के करीब 50 से अधिक स्टाफ बेहतर सुविधा की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं. उनकी मांग है कि सरकार होटल में क्वारनटीन करने की सुविधा दे. एलएनजेपी हॉस्पिटल को सरकार ने कोरोना हॉस्पिटल घोषित किया है.

प्रदर्शन कर रहे मेडिकल स्टाफ का आरोप है कि हम 15 मार्च से ही क्वारनटीन की व्यवस्था करने की मांग कर रहे हैं. इसकी शिकायत हम हर रोज मंत्री से लेकर अफसरों तक करते हैं. हमारे एमडी भी हमारी बात नहीं सुनते हैं. आज भी हम जब अपनी मांग को लेकर गए तो पहले उन्होंने सुनने से मना कर दिया, फिर कहा कि गुजरात भवन में व्यवस्था कर दी जाती है. इसके लिए हम पत्र लिख रहे हैं. एमडी ने होम क्वारनटीन करने की सलाह दी.

मेडिकल स्टाफ का आरोप है कि जब हमने होम क्वारनटीन को लेकर अपनी समस्याएं बताई तो एमडी भड़क गए. इसके बाद हम सभी मंत्रियों के घर गए, लेकिन किसी ने कोई बात नहीं की. हम अपनी जान को खतरे में डालकर इलाज कर रहे हैं. हमारे मरने के बाद एक करोड़ रुपये का क्या होगा.

दिल्ली सरकार ने एलएनजेपी को कोरोना हॉस्पिटल घोषित किया है. इसमें कोरोना मरीजों के लिए 1500 बेड आरक्षित किए गए हैं, जो आज बढ़ाकर 2000 कर दिए गए है. दरअसल, जीबी पंत हॉस्पिटल को सरकार ने कोरोना हॉस्पिटल के दायरे से बाहर निकाल दिया है. जीबी पंत के आम मरीजों की परेशानियों को देखते हुए यह फैसला लिया गया.

दिल्ली सरकार के इस फैसले से एलएनजेपी हॉस्पिटल पर दबाव बढ़ गया है. अब यहां के मेडिकल स्टाफ बेहतर सुविधा देने की मांग कर रहे हैं. हालांकि, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दावा किया था कि डॉक्टर और मेडिकल स्टाफ की ठहरने की व्यवस्था होटलों में की जाएगी. मगर अभी एलएनजेपी हॉस्पिटल के इन मेडिकल स्टाफ को यह सुविधा नहीं मिली है.

सबसे नया

To Top
//whugesto.net/afu.php?zoneid=3256832