क्या चल रहा है?

दिल्ली में बढ़ा कोरोना का दायरा, सरकार को अब भी PPE किट का इंतजार

  • दिल्ली को नहीं मिले पीपीई किट्स
  • केंद्र सरकार से की थी मांग
  • दिल्ली में मेडिकल स्टाफ कोरोना संक्रमित

कोरोना वायरस का दायरा दिल्ली में तेजी से बढ़ रहा है. राजधानी में कोरोना संक्रमितों की संख्या 500 के पार निकल गई है और सात लोगों की इस वायरस से मौत हो चुकी है. ऐसे में अब चर्चा के केंद्र दिल्ली की मेडिकल सुविधाएं भी आ गई हैं. दिल्ली सरकार का कहना है कि उसे केंद्र से टेस्टिंग किट तक नहीं मिल पाई हैं.

ये हालात तब हैं जब मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने खुद जानकारी दी थी कि उनके पास PPE किट की कमी हो गई है, जिसके चलते वो डॉक्टर्स और नर्सिंग स्टाफ को लेकर चिंतित हैं. केजरीवाल ने 4 अप्रैल को बताया था कि हमने कल (3 अप्रैल) केंद्र सरकार को पीपीई किट की मांग रखी थी.

सोमवार को इस मसले पर दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने आजतक से बातचीत में बताया कि केंद्र सरकार ने कहा है कि वह 27000 किट मुहैया कराएंगे. उन्होंने बताया कि आज या कल पर्सनल प्रोटेक्टिव किट मिल जाएंगे.

इसके अलावा सत्येंद्र जैन ने बताया, ‘हमारे पास अस्पताल में आईसीयू और वेंटिलेटर पर्याप्त हैं. अभी सिर्फ एक आईसीयू की जरूरत पड़ी है और वेंटिलेटर भी मौजूद संख्या के मुकाबले बेहद कम इस्तेमाल हुए हैं. 500 बेड अतिरिक्त भी मौजूद हैं.’

दिल्ली सरकार का दावा है कि उनके पास वेंटिलेटर फिलहाल उचित संख्या में हैं और हालात भी नियंत्रण में हैं. सत्येंद्र जैन ने बताया कि हालात फिलहाल नियंत्रण में हैं, लेकिन मामले थोड़े बढ़ सकते हैं. हालांकि, उन्होंने ये भी कहा कि अभी कोरोना का कम्युनिटी स्प्रेड नहीं हुआ है. सत्येंद्र जैन ने लोगों से घर में ही रहने की अपील की.

बता दें कि दिल्ली में डॉक्टर और मेडिकल स्टाफ से जुड़े कई केस सामने आ चुके हैं. मोहल्ला क्लीनिक के डॉक्टर कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं. इसके अलावा गंगा राम अस्पताल के 100 से ज्यादा डॉक्टरों व दूसरे मेडिकल स्टाफ को क्वारनटीन किया गया है. राजीव गांधी कैंसर इंस्टीट्यूट के दो नर्सिंग स्टाफ भी कोरोना की चपेट में आ गए हैं. ऐसे में कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहे डॉक्टरों की सुरक्षा सबसे ज्यादा अहम है.

Source :aajtak.intoday.in

सबसे नया

To Top
//azoaltou.com/afu.php?zoneid=3256832