क्या चल रहा है?

दिल्ली में तीन और नए कंटेनमेंट जोन की पहचान, हॉट स्पॉट की संख्या बढ़कर 30 तक पहुंची

  • महज 8 से 10 अप्रैल के बीच 18 नए जोन चिन्हित किए गए
  • ये भयावह है, भीकम सिंह कॉलोनी में तोड़ा कानून

दिल्ली. दिल्ली में कंटेनमेंट जोन(कोरोना पॉजिटिव हॉट स्पॉट) की संख्या बढ़कर 30 तक पहुंच गई है। शुक्रवार को तीन नए कंटेनमेंट जोन के ऑर्डर किए गए हैं। इसमें जाकिर नगर का गली नंबर 18-22 और अबु बकर मस्जिद के पास का इलाका, सेंट्रल जिला का चांदनी महल और नबी करीब जुड़े हैं। इसी तरह से अगर पिछले तीन दिन यानी 8-10 अप्रैल के बीच की बात करें तो 18 नए जोन जुड़े हैं। इससे पहले 14 कंटेनमेंट जोन 26 मार्च से 7 अप्रैल यानी 13 दिन में बने थे। जिला प्रशासन और पुलिस ने यहां लोगों को घर में क्वारेंटाइन रहने के साथ गली में भी बाहर ना निकलने के लिए कहा है।

विशेष बात यह है कि मुस्लिम बहुल उत्तर पूर्वी दिल्ली जिला में एक भी हॉट स्पॉट जोन बनाने की अभी जरूरत नहीं पड़ी है। इसी तरफ उत्तर पश्चिम जिला में भी कोई हॉट स्पॉट जोन नहीं बना है।जिला प्रशासन ने पुलिस की मदद से संबंधित अपार्टमेंट, गली, गांव या कालोनी के पॉकेट को ‘डब लॉक’ कर दिया है। यूं तो जो एक गली है या अपार्टमेंट है उसे बंद करना आसान है लेकिन जहां कालोनी के टुकड़े हैं, वहां दिक्कत भी आ रही है। इन सबके बीच अच्छी खबर ये है कि जिला प्रशासन, पुलिस के साथ मिलकर आरडब्ल्यूए कंटेनमेंट ऑर्डर का पालन भी कर रहा रही है। कहीं आरडब्ल्यूए ने सब्जी वाला लाकर बैठाया तो कहीं सब्जी वाले को दूध-ब्रेड व अन्य घरेलू सामान, फल लाने के लिए भी पुलिस व प्रशासन ने कह दिया है।

ऑनलाइन, ऑन कॉल के अलावा सुबह के समय दो-तीन घंटे की छूट भी नजदीक की दुकान तक जाने के लिए दी जा रही है। इधर, हो क्वारेंटाइन का पालन नहींकरने वालों पर पुलिस ने कार्रवाई की है। पुलिस ने ऐसे लोगों पर कानून का उल्लंघन करने पर 200 से अधिक लोगों पर कार्रवाई की है। ये वे लोग है, जिन्हें होम क्वारंटाइन किया गया था। दिल्ली में करीब 16 हजार लोगों को क्वारंटाइन किया गया है। पुलिस के मुताबिक जिनको क्वारंटाइन किया गया है, उनके मोबाइल नंबर सर्विलांस पर लगाए हुए थे। इन लोगों के घर के बाहर पोस्टर भी लगाए हुए थे, जिन पर उनका नाम भी लिखा हुआ है। पुलिस ने आसपास के लोगों को भी हिदायत दी गई थी कि इस तरह का कोई भी शख्स बाहर घूमता हुआ दिखाई दे तो तुरंत पुलिस को सूचना दें। पुलिस ने जिन लोगों के नंबर घर पर नहीं दिख रहे थे, उन्हें ट्रेस करके उनके खिलाफ आईपीसी की धारा 188 के अलावा महामारी एक्ट के तहत कार्रवाई की जा रही है। इसबीच, जिला प्रशासन ने हॉट स्पॉट घोषित स्थानों पर पुलिस की मदद से संबंधित अपार्टमेंट, गली, गांव या कालोनी के पॉकेट को ‘डब लॉक’ कर दिया है।

Source :www.bhaskar.com

सबसे नया

To Top
//azoaltou.com/afu.php?zoneid=3256832