क्या चल रहा है?

दिल्ली के सफदरगंज अस्पताल में भर्ती एसआई ने दम तोड़ा, शुगर और हाइपरटेंशन की शिकायत भी थी

  • मृतक एसआई मयूर विहार स्थित 31वीं बटालियन में तैनात थे, पांच दिन पहले रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी
  • 31वीं बटालियन के सभी जवानों और उनके परिवार के 400 सदस्यों की जांच की जा चुकी

नई दिल्ली. केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के 55 वर्षीय सब इंस्पेक्टर की मंगलवार को कोरोना संक्रमण के चलते मौत हो गई। उन्हें शुगर और हाइपरटेंशन की भी समस्या थी। सीआरपीएफ में कोरोना से मौत का यह पहला मामला है। मृतक एसआई मयूर विहार स्थित 31वीं बटालियन में तैनात थे। पांच दिन पहले उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। उन्हें दिल्ली के सफदरगंज अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

सीआरपीएफ के 12 अन्य जवान मंगलवार को पॉजिटिव मिले। इसके साथ ही अब तक दिल्ली में सीआरपीएफ के 47 जवान कोरोना संक्रमित पाए जा चुके हैं। संक्रमित पाए गए जवानों को स्थानीय लोगों की मदद के लिए और उन्हें जरूरी सामान की आपूर्ति करने का काम सौंपा गया था।

नर्सिंग कर्मचारी के संपर्क में आने से संक्रमित हुआ था एसआई

मृतक एसआई सीआरपीएफ के मयूर विहार कैंप में तैनात थे। सूत्रों के मुताबिक, वह एक नर्सिंग कर्मचारी के संपर्क में आने से संक्रमित हुए थे। उन्हें दूसरे जवानों के साथ मंडोली में कोरोना पीड़ितों के लिए बनाए गए कैंप में रखा गया था। 31वीं बटालियन के सभी जवानों और उनके परिवार के 400 सदस्यों की जांच की जा चुकी है।

सीआरपीएफ देश की सबसे बड़ी पैरामिलिट्री फोर्स
सीआरपीएफ देश की सबसे बड़ी पैरामिलिट्री फोर्स है। इसमें करीब 3.25 लाख जवान और अधिकारी अलग-अलग रैंकों पर सेवाएं देते हैं। यह केंद्रीय सुरक्षा बल मुख्य तौर पर देश की अंदरूनी सुरक्षा व्यवस्था संभालने का काम करता है। खास तौर पर नक्सली गतिविधियों और कश्मीर में आतंकी गतिविधियों को रोकने के लिए इन्हें तैनात किया जाता है। कोरोना संक्रमण के कुछ मामले सीमा सुरक्षा बल(बीएसएफ) और केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल(सीआईएसएफ) में भी सामने आए हैं। इनमें से कुछ ठीक भी हुए हैं।

सबसे नया

To Top
//zuphaims.com/afu.php?zoneid=3256832