क्या चल रहा है?

तेजी से खिसक रहा जलस्तर, मई और जून के मंजर को सोच कर परेशान हैं किसान

  • तेजी से चढ़ रहा है पारा, दियारा क्षेत्र में नहीं है सिंचाई के वैकल्पिक उपाय

डुमरांव. पिछले एक पखवारे से तापमान लगातार बढ़ रहा है। गर्म पछिया हवा से जमीन तक गर्म होने लगी है। तापमान बढ़ने से जलस्तर भी तेजी स नीचे खिसकने लगा है। जिसका असर फसलों पर पड़ने लगा है। खासकर दियारा क्षेत्र में जहां सिंचाई के वैकल्पिक साधनों का घोर अभाव है वहा खेतों में लगी सब्जियाें की फसल सूखने के कगार पर पहुंच गई है। इस मौसम में दियारा क्षेत्र में बड़े पैमाने पर गर्मा सब्जी की खेती की जाती है। अधिकांश सब्जियों के फसल के लिए पानी की खास आवश्यकता नहीं होती है। लेकिन कुछ खास तरह के सब्जियों के उत्पादन में पानी अधिक लगता है।

दियारा क्षेत्र में वैसे भी न तो नहरे है और न ही सरकारी नलकूप। किसान अपने निजी ट्यूबवेल से ही खेतों की सिंचाई करते है। इधर लाॅक डाउन के दौरान किसानों को कई तरह की दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। जिसका असर सीधे उनकी खेती पर पड़ रहा है। खरहाटांड़ के किसान श्याम बिहारी यादव ने कहा कि मोटर खराब होने के बाद उसे बनाने के लिए मिस्त्री व उपकरण नहीं मिल रहा है।

वहीं, किसान मनोज यादव की मानें तो पहले की अपेक्षा अब डीजल लेकर आना भी आसान नहीं रहा गया है। किसान सुरेश कुमार, संपति चौधरी आदि ने कहा कि जिस तेजी से तापमान बढ़ रहा है और पछिया हवा चल रही है। ऐसे में सब्जी की फसल को बचाना चुनौतीपूर्ण बन गया है। जिसके चलते किसानों द्वारा लगाई गई प्याज, टमाटर, खीरा, ककड़ी, साग की फसल बर्बाद हो रही है।

Source :www.bhaskar.com

सबसे नया

To Top
//azoaltou.com/afu.php?zoneid=3256832