क्या चल रहा है?

जिन गांव में बाहर से लोग आएं हैं उन गांव का प्राथमिकता के आधार पर होगा शत प्रतिशत सर्वे

  • स्वास्थ्य विभाग ने जिलाधिकारियों को दिया निर्देश, एक मई से शुरु करें सर्वे

पटना. कोरोना संक्रमण की रफ्तार पर लगाम लगे इसके लिए राज्य सरकार लगातार नए-नए कदम उठा रही है। राज्य में डोर टू डोर सर्वे का काम तो चल रहा है लेकिन, सरकार ने जिन पंचायत या गांव में बाहर से लोग आएं हैं या जिन गांव में कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं उन गांवों का प्राथमिकता के आधार पर हर घर का शतप्रतिशत सर्वे कराने का निर्णय लिया है। स्वास्थ्य विभाग ने इस संबंध में  बेगूसराय, नालंदा, सीवान और नवादा को छोड़कर अन्य जिला के जिलाधिकारी और सिविल सर्जन को निर्देश दिया है। निर्देश में स्पष्ट कहा गया है कि टारगेट ओरिएंटेड इस सर्वे का काम 1 मई से हो।

जिन गांव या पंचायत में पहले सर्वे हो चुका है वहां दोबारा नहीं होगा
स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव की ओर से जारी निर्देश में कहा गया है कि चूंकि राज्य में सर्वे का काम 14 अप्रैल से ही शुरु है और जिन पंचायत के शत प्रतिशत घरों का सर्वे हो गया है वहां दोबारा से सर्वे नहीं होना चाहिए। जिन गांव में बाहर से अधिक संख्या में लोग आए हैं उनको प्राथमिकता के आधार पर सर्वे करें।

कोरोना लक्षण वालों की सूचना तुरंत देने का आदेश
सर्वे में लगे आंगनबाड़ी सेविका और दूसरे वोलेंटियर को यह निर्देश दिया गया है कि सर्वे के दौरान कोरोना संक्रमण या सर्दी-खांसी की लक्षण मिले तो तुरंत इसकी सूचना वरीय अधिकारियों की दी जाए और सैंपल लेकर जांच के लिए संबंधित जांच केंद्रों को भेजें।

सबसे नया

To Top
//luvaihoo.com/afu.php?zoneid=3256832