क्या चल रहा है?

गुरुग्राम में हीरो, मारूति, होंडा सहित 450 कंपनियों में मेंटेनेंस का काम शुरू, दिल्ली से हरियाणा आने वालों पर रोक

  • सोनीपत में दिल्ली बॉर्डर पर हरियाणा आने वाले पुलिस के साथ कर रहे हंगामा
  • दिल्ली के कर्मचारी बने हरियाणा पुलिस के लिए सिरदर्द, बहाने बनाकर कर रहे एंट्री

पानीपत. हरियाणा में लॉकडाउन के दूसरे चरण के 14वें दिन दिल्ली से सटे बॉर्डर पर पुलिस की सख्ती देखने को मिल रही है। सोनीपत, बहादुरगढ़, गुरुग्राम और फरीदाबाद में पुलिस दिल्ली से आने वालों को एंट्री देने में पूरी सख्ती दिखा रही है। लोग पुलिस के साथ बहसबाजी भी कर रहे हैं। कुछ लोग पास दिखाकर व कुछ बहाने बनाकर एंट्री भी कर रहे हैं। वहीं प्रदेश में कुल संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 306 पहुंच गया है। अब सामने आ रहे ज्यादातर मामलों का दिल्ली कनेक्शन निकलकर आ रहा है। इस वजह से सरकार ने सख्ती कर दी है।

सोनीपत में पुलिस के साथ लगातार हो रही कहासुनी
देश की राजधानी दिल्ली के सरकारी कर्मचारी अब हरियाणा के लिए सिरदर्द बनते जा रहे हैं। ये कर्मचारी सुबह जैसे-तैसे दिल्ली में प्रवेश तो कर जाते हैं, लेकिन रात को ड्यूटी समाप्त कर जब वापस हरियाणा में प्रवेश करने का प्रयास करते हैं तो उन्हें अनुमति नहीं दी जाती। दिल्ली-हरियाणा के बॉर्डर पर सुबह से रात तक खूब हंगामा हो रहा है। जिला प्रशासन ने दिल्ली से सोनीपत में किसी भी व्यक्ति या कर्मचारी के आगमन पर रोक लगा दी है। इसके बाद तैनात पुलिस कर्मियों से लगातार कहासुनी हो रही है। कई तो दिल्ली में विशेष ड्यूटी होने की बात कहकर झगड़ा करते हैं यहां तक कि उच्चाधिकारियों को शिकायतें भी कर रहे हैं। इस वजह से बॉर्डर पर शाम 5 बजे से लेकर रात 10:30 बजे तक हंगामा व ड्रामा चलता है। करीब 3 हजार कर्मचारी सोनीपत व आसपास के क्षेत्र से दिल्ली में ड्यूटी पर जाते हैं। अब उन्हें वहीं रहने की हिदायत है।

झज्जर के बाढ़सा में स्थित एम्स के कैंसर इंस्टीट्यूट में ठीक होने के बाद घर जाते हुए जमाती। यहां दिल्ली में मिले जमातियों को क्वारैंटाइन किया गया था।दिल्ली बेसक जाओ, लेकिन हम हरियाणा में एंट्री नही करने देंगे
राई एसएचओ रविंद्र कुमार की टीम ने दिल्ली पुलिस के अलावा हरियाणा पुलिस का भी एक नाका लगा दिया है। यह नाका दिल्ली में प्रवेश करने वालों को एडवाइजरी देने के लिए लगाया गया। जो दिल्ली सरकार या केंद्र सरकार के कर्मचारी दिल्ली में प्रवेश कर रहे थे, उन्हें बार- बार समझाया जा रहा था कि वे अपने घर पर रहें। बेसक दिल्ली में प्रवेश करें, लेकिन शाम को हरियाणा में एंट्री नही करने दी जाएगी। एसपी जश्नदीप सिंह रंधावा भी डीएसपी हरेंद्र कुमार व एसएचओ रविंद्र कुमार से पल- पल की जानकारी ले रहे हैं।

गुरुग्राम में हीरो, मारूति, होंडा सहित 450 कंपनियों में मेंटेनेंस का काम शुरू
एक महीने से बंद पड़े उद्योगों को फिर से गति देने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। लॉकडाउन अवधि में बंद पड़े लगभग 12500 उद्योगों में से 450 कंपनियों में उत्पादन का कार्य शुरू करने के लिए जिला कमेटी द्वारा अनुमति दी गई है। इन कंपनियों में कार बनाने वाली देश की अग्रणी कंपनी मारुति सुजूकी, टू-व्हीलर बनाने वाली अग्रणी कंपनी हीरो मोटो कार्प और होंडा मोटरसाइकिल एंड स्कूटर इंडिया शामिल है। इन कंपनियों में काम शुरू करने के लिए लगभग 40 हजार श्रमिकों को पास दिए गए हैं। हालांकि, 15 से 20 फीसदी कर्मियों से कंपनियां उत्पादन का काम शुरू करने की स्थिति में नहीं है। मगर, कंपनियों को भरोसा है कि 4 अप्रैल से लॉकडाउन समाप्त होने पर उत्पादन कार्य शुरू करने के लिए प्लांटों को तैयार करने में मदद मिलेगी। फिलहाल, इन सभी कंपनियों में मेंटेनेंस का काम शुरू हो गया है। केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा जारी दिशानिर्देशों के मानक संचालन प्रक्रिया (स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसिजर) के तहत निर्धारित शर्तों के तहत 20 अप्रैल से उत्पादन शुरू करने की छूट दी गई थी।

मानेसर के मारुति प्लांट में चल रहा मेंटेनेंस का कार्य
कमेटी ने सबसे पहले कार बनाने वाली कंपनी मारुति सुजूकी को मानेसर प्लांट में कुल 600 कर्मियों को से सिंगल शिफ्ट में काम कराने की अनुमति दी थी। इसके साथ ही कंपनी को 50 वाहनों की आवाजाही की अनुमति दी गई थी। हालांकि, कंपनी ने 4696 श्रमिकों के लिए सरल हरियाणा पोर्टल पर अनुमति मांगी थी। मगर, इस अनुमति के बावजूद कंपनी उत्पादन का काम शुरू नहीं कर रही है। फिलहाल, प्लांट में केवल मेंटेनेंस का काम किया जा रहा है।

1 साल तक नई भर्तियों पर रोक, कर्मचारियों की एलटीसी पर भी रोक
कोरोना संकट के चलते प्रदेश के कर्मचारियों को साल में दो बार मिलने वाला महंगाई भत्ता अगले एक वर्ष के लिए नहीं बढ़ेगा। यही नहीं एलटीसी (लीव ट्रैवल कंसेशन) भी रोक दी गई है। इसके तहत कर्मचारियों को चार वर्ष में बाहर घूमने के लिए एक माह का वेतन कर्मचारी को दिए जाने का प्रावधान है, जो फिलहाल नहीं मिलेगा। हरियाणा में सरकार ने सरकारी भर्तियों पर भी फिलहाल अस्थाई रूप से रोक लगा दी है। कोरोना संक्रमण से लॉकडाउन के कारण न केवल हरियाणा बल्कि समूचे विश्व की वित्तीय स्थिति काफी गड़बड़ा गई है। इस कारण खर्चों को कम करने की योजना बनाई जा रही है। जिस तरह से केंद्र सरकार ने कर्मियों का डीए एक साल के लिए रोका था, ठीक उसी तरह राज्य सरकार ने निर्णय लिया है। इसके अलावा राज्य में कर्मचारियों की एलटीसी भी रोक दी गई है।

सोनीपत में दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर पर पुलिस के साथ आम लोगों की जमकर बहस हो रही है। पुलिस हरियाणा आने वालों को साफ-साफ मना करके वापिस लौटा रही है। 

पीएम के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस में प्रतियोगी परीक्षाओं में अनिश्चितता पर कदम उठाने का सुझाव
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ वीडियो कान्फ्रेंस में हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने प्रदेश की वर्तमान स्थिति के बारे में उन्हें विस्तार से बताया। साथ ही लोगों को बचाने को लिए गए फैसलों की जानकारी दी। साथ ही युवाओं की बात भी रखी। उन्होंने केंद्र सरकार से एनडीए, इंजीनियरिंग कॉलेजों एवं मेडिकल कॉलेजों में दाखिले के लिए 12वीं कक्षा के बाद होने वाली प्रतियोगी कंबाइंड डिफेंस सर्विसिज़, जेईई और एनईईटी(नीट) की परीक्षाओं के संबंध में चल रही अनिश्चितता को जल्द समाप्त करने के लिए तुरंत कदम उठाने का आग्रह किया है। सीएम ने कहा प्रधानमंत्री को बताया कि हरियाणा कोरोना वायरस से बने इस संकट की इस घड़ी में हर स्थिति से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार है। आर्थिक गतिविधियों को सुरक्षित तरीके से दोबारा शुरू करने के लिए सभी प्रयास किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि कुल मिलाकर राज्य में अब तक स्थिति पूरी तरह नियंत्रण में है। हरियाणा सावधान हैं और भविष्य में किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार हैं।

हरियाणा में 306 पहुंचा आंकड़ा, अब भी नूंह पहले नंबर पर
राज्य में संक्रमित का आंकड़ा 306 पहुंच गया। सबसे ज्यादा 57 मरीज नूंह के हैं। गुरुग्राम में 51, फरीदाबाद में 46, पलवल में 34, पंचकूला में 19, सोनीपत में 22, अम्बाला में 14, पानीपत में 13, झज्जर में 5, करनाल में 6, रोहतक, हिसार और सिरसा में 4-4, यमुनानगर और भिवानी में 3-3, कैथल, जींद, कुरुक्षेत्र में 2-2 और चरखी दादरी, झज्जर व फतेहाबाद में एक-एक पॉजिटिव मरीज मिला। इसके अलावा, मेदांता अस्पताल गुड़गांव में 14 इटली के नागरिकों को भी भर्ती करवाया गया था, जिन्हें हरियाणा ने अपनी सूची में जोड़ा है। उनके समेत कुल संक्रमित का आंकड़ा 306 हो जाता है।

306 मरीजों में से 213 मरीज हुए ठीक
प्रदेश में अब कुल 213 मरीज ठीक हो गए हैं। नूंह  में 44, फरीदाबाद में 37, गुरुग्राम में 36, पलवल 29, अम्बाला व पंचकूला में 10-10, करनाल और पानीपत में 5-5, सिरसा और सोनीपत में 4-4, यमुनानगर में 3, हिसार, कैथल, कुरुक्षेत्र और भिवानी में 2-2, चरखी दादरी, फतेहाबाद 1-1 मरीज ठीक होने पर घर भेजा गया। 14 मरीज इटली के भी ठीक हुए हैं, उनके समेत कुल आंकड़ा 213 हो जाता है।

हरियाणा में अभी तक 133 जमाती मिले संक्रमित
प्रदेश में अब तक 133 जमाती संक्रमित मिले हैं। इनमें सबसे ज्यादा नूंह जिले से हैं। यहां कुल 42 जमाती संक्रमित पाए गए। इसके अलावा, पलवल 31, फरीदाबाद 23, गुरुग्राम 15, अम्बाला 5, पंचकूला 7, यमुनागर 3, भिवानी 2, कैथल, जींद, चरखी दादरी, फतेहाबाद और सोनीपत में एक-एक मरीज संक्रमित मिला। यह सभी मरकज से लौटे थे। जिन्हें अलग-अलग मस्जिदों और गांवों से पकड़ा गया था।

सबसे नया

To Top
//luvaihoo.com/afu.php?zoneid=3256832