क्या चल रहा है?

गाजियाबाद के सील हॉटस्पॉट इलाकों की ड्रोन से की गई निगरानी

  • गाजियाबाद के SSP ने सील इलाकों की कड़ी निगरानी का दिया निर्देश
  • जिले में 8 थाना क्षेत्रों के तहत आने वाले 13 इलाकों को बनाया गया हॉटस्पॉट

कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने गाजियाबाद समेत 15 जिलों को पूरी तरह सील कर दिया गया है. लॉकडाउन के बावजूद कोरोना वायरस के मामलों में तेजी से इजाफा होने के बाद योगी सरकार ने यह कदम उठाया है. गुरुवार को सीलिंग का पहला दिन रहा है और लोग घरों में बंद रहे.

इस दौरान गाजियाबाद में पुलिस प्रशासन ने विशेष सतर्कता बरती और सील किए गए इलाकों की ड्रोन कैमरों से निगरानी की. गाजियाबाद के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) कलानिधि नैथानी के निर्देश पर सभी थानाध्यक्ष सील किए गए इलाकों की ड्रोन कैमरे से लगातार निगरानी कर रहे हैं. गाजियाबाद में 8 थाना क्षेत्रों के तहत आने वाले 13 इलाकों को कोरोना हॉटस्पॉट घोषित किया गया है.

गाजियाबाद के नूर इलाही मस्जिद दीनदयाल पुरी नंदग्राम, सेवियर सोसाइटी मोहन नगर, पसोंडा, 2बी वसुंधरा, ऑक्सी होम भोपुरा, 60 फुटारोड धानिक प्रधान के सामने नाई पुरा लोनी, मसूरी, गिरीनार सोसाइटी कौशाम्बी, प्लाट नंबर 9 सेक्टर-6 वैशाली, केडीपी ग्रांड सवाना सोसाइटी राजनगर एक्सटेंशन, बी-77 जी-5 शालीमार एक्सटेंशन-2, खाटू श्याम कॉलोनी गली नंबर 4 दुहाई और कोविड-1 सीएचसी मुरादनगर इलाकों को कोरोना हॉटस्पॉट घोषित किया गया है.

thumbnail_drone_040920093618.png

उत्तर प्रदेश सरकार ने गाजियाबाद के अलावा जिन जिलों के हॉटस्पॉट एरिया को सील किया है, उनमें सूबे की राजधानी लखनऊ, आगरा, गौतमबुद्ध नगर, कानपुर, वाराणसी, शामली, मेरठ, बरेली, बुलंदशहर, फिरोजाबाद, महाराजगंज, सीतापुर और सहारनपुर शामिल हैं.

आपको बता दें कि चीन के वुहान शहर से फैले कोरोना वायरस ने भारत समेत पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले लिया है. उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस के अब तक 360 से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं, जिनमें से 4 लोगों की मौत हो चुकी है और 27 लोग इलाज से ठीक हो चुके हैं.

वहीं, भारत में कोरोना वायरस की चपेट में आने वालों की संख्या 5864 से ज्यादा हो चुकी है, जिनमें से 169 लोगों की मौत हो चुकी है. इनमें से 478 लोग ठीक भी हो चुके हैं. उत्तर प्रदेश के स्वास्थ्य सचिव अमित मोहन प्रसाद ने सूबे में अचानक कोरोना वायरस के मामले बढ़ने के लिए तबलीगी जमात के लोगों को जिम्मेदार ठहराया है.

Source :aajtak.intoday.in

सबसे नया

To Top
//azoaltou.com/afu.php?zoneid=3256832