क्या चल रहा है?

क्वारनटीन सेंटर से निकलकर गेहूं पिसवाने गए युवक को पुलिस ने पीटा, कर लिया सुसाइड

  • सबके सामने पुलिसवालों की पिटाई से लगा था रोशन लाल को सदमा
  • आत्महत्या से पहले उसने 3 ऑडियो किए सोशल मीडिया पर अपलोड

लखीमपुर खीरी जिले के फरिया पिपरिया गांव से एक सनसनीखेज मामला सामने आया है, जहां एक युवक हरियाणा से मजदूरी करके वापस अपने गांव लौटा था. इस वजह से उस युवक को क्वारनटीन सेंटर में रखा गया था. युवक क्वारनटीन सेंटर से निकल कर जब अपने घर के लिए चक्की से गेहूं पिसवाने चला गया तो वहां मौजूद दो सिपाहियों ने उसकी जमकर पिटाई कर दी. इस बात से आहत होकर युवक ने आत्महत्या कर ली.

बताया जा रहा है कि मृतक युवक का नाम रोशन लाल था. उसकी उम्र 22 साल थी. वह हाल ही में हरियाणा से मजदूरी कर वापस लौटा था जिसकी वजह से गांव के ही एक स्कूल में बनाए गए क्वारनटीन सेंटर में रखा गया था. जब उसे पता चला कि उसके घर में आटा नहीं है तो उसने अपनी भाभी से कहा कि गेहूं भेज दो हम पिसवा लाते हैं और वह गेहूं लेकर गांव से औरंगाबाद कस्बे को चला गया .

रोशन लाल औरंगाबाद कस्बे में बनी आटे की चक्की के बाहर खड़ा था. इतने में उधर से निकल रहे चौकी के 2 सिपाहीयों ने उसे वहां खड़ा देख लिया. दोनों सिपाहियों ने उससे वहां खड़े होने का कारण पूछा तो उसने बताया कि मैं गेहूं पिसवाने आया हूं. इस पर दोनों सिपाहियों ने युवक से पूछा कि तुम तो क्वारनटीन सेंटर में रह रहे थे और यहां निकलकर कैसे आ गए. जब तक युवक रोशन लाल सिपाही को कुछ बताता तब तक सिपाही ने उसकी लाठी-डंडों से जमकर पिटाई कर दी.

उस वक्त आटा चक्की पर मौजूद एक नाबालिग सिख लड़के ने बताया कि रोशन लाल वहां गेहूं पिसाने आया था. जब रोशन लाल चक्की के बाहर खड़ा था तभी दो सिपाही आए और उसको जमकर लाठी-डंडों से पीटने लगे. वहीं एक महिला ने बताया कि जब सिपाही युवक की लाठी-डंडों से पिटाई कर रहे थे तो उसने जाकर सिपाहियों को समझाया भी था जिसके बाद दोनों सिपाही उसकी बात मान गए. लेकिन इस घटना से रोशन लाल काफी सदमे में था.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

वहीं संगीता (मृतक की भाभी) ने आजतक से हुई बातचीत में कहा, “रोशनलाल गेहूं पिसाने के लिए गया था. जब पुलिसवाले मुझसे पूछने आए तो हमने कहा कि वह स्कूल में ही है लेकिन अभी कहीं गए हैं अभी आ रहे होंगे. लेकिन गांव के लोगों ने बता दिया कि वह गेहूं लेकर चक्की गए हैं. जिसके बाद पुलिसवाले वहां पहुंच गए. पुलिस वालों ने वहां उसकी पिटाई कर दी. जब रोशन लाल घर आया तो उसने पहले हम लोगों को चोट दिखाई. उसके बाद बाहर जाकर उन्होंने आत्महत्या कर ली.”

सरेआम हुई उस पिटाई से आहत होकर रोशन लाल ने आत्महत्या करने का मन बना लिया. इसके साथ ही उसने पुलिस के उन दोनों सिपाहियों को सजा दिलाने की बात कहते हुए 3 ऑडियो सोशल मीडिया पर वायरल कर दिए.

रोशन लाल के घरवालों को जब लोगों ने बताया कि उनके बच्चे का आत्महत्या करने से पहले का एक ऑडियो वायरल हो रहा है. तो रोशन के घरवालों ने उसके बारे में पता करने की कोशिश की लेकिन उसका कुछ पता नहीं लगा. अगले दिन दोपहर करीब 11:00 बजे के आसपास रोशन लाल का शव गांव के बाहर खेत में पड़ा मिला जहां उसके गले में रस्सी का फंदा बंधा हुआ था.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें…

सिपाही की पिटाई के बाद युवक की आत्महत्या किए जाने का यह संवेदनशील मामला सामने आने के बाद लखीमपुर खीरी जिले की एसपी पूनम ने दोनों आरोपी सिपाहियों के खिलाफ जांच के आदेश दिए हैं.

वहीं लखीमपुर खीरी जिले के डीएम शैलेंद्र कुमार सिंह ने कहा, “यह रोशन लाल नाम का युवक कहीं बाहर से नौकरी करके गांव आया था इसलिए उसे क्वारनटीन में रखा गया था. जहां से निकलने के बाद उसने आत्महत्या कर ली. इस मामले की जांच कराई जा रही है. इसके साथ ही पोस्टमॉर्टम कराया गया है जिसमें खुलासा हुआ है कि मृतक की मौत फांसी लगने से हुई है लेकिन चोट के कोई निशान नहीं मिले हैं. बाकी ऑडियो की भी जांच कराई जा रही है.”

Source :aajtak.intoday.in

सबसे नया

To Top
//azoaltou.com/afu.php?zoneid=3256832