क्या चल रहा है?

क्वारनटीन सेंटर के दरवाजे पर शौच, दो जमातियों के खिलाफ एफआईआर

दिल्ली में कोरोना संक्रमितों की तादाद 523 पहुंच चुकी है. इनमें जमात के लोगों की तादाद 330 है. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया का कहना है कि जमात ने दिल्ली को महामारी के भारी संकट में डाल दिया है. बावजूद इसके कई जमाती सुधर नहीं रहे हैं. ताजा मामला क्वारनटीन सेंटर के दरवाजे पर शौच करने का है.

दरअसल, दिल्ली के नरेला पुलिस स्टेशन में जमातियों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है. इन पर क्वारनटीन सेंटर में शौच करने का आरोप है. क्वारनटीन सेंटर के इंचार्ज की तरफ से दी गई शिकायत के आधार पर पुलिस ने जमाती मोहम्मद फाद और अदनाम जाहिर के खिलाफ मामला दर्ज किया है.

क्यों दिल्ली में बढ़ा कोरोना का खतरा

जब मक्का-मदीना और काबा कोरोना संक्रमण की वजह से बंद हो चुका था तब दिल्ली में तबलीगी जमात का मरकज चल रहा था. यहां से कोरोना संक्रमण की खबर आने के बाद जब जमातियों को बाहर निकाला गया तो उनकी जांच के बाद दिल्ली में कोरोना के मामले देखते ही देखते 500 को पार कर गए.

खतरे में संपर्क में आए लोग

खुद सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में 523 कुल केस हैं, जिसमें जमातियों की संख्या 330 है. इनकी वजह से दिल्ली में कोरोना संकट बढ़ गया है. इससे साफ है कि जमातियों ने दिल्ली को बहत बड़े खतरे में डाल दिया है. खतरा केवल उनका नहीं, जो अस्पतालों में भर्ती हैं. बल्कि उनका भी है जो इन जमातियों के संपर्क में आए हैं.

25 हजार जमातियों की तलाश

खतरा उन डॉक्टरों, नर्सों और स्टाफ को भी है जो उनका इलाज कर रहे हैं, क्योंकि ये ऐसी महामारी है जिसकी चपेट में डॉक्टर भी आ रहे हैं. इस वजह से दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने भी जमात को ही सारी मुसीबत की जड़ बता दिया है. इस बीच दिल्ली पुलिस करीब 25 हजार जमातियों को ट्रेस करने में एड़ी-चोटी का जोर लगा रही है, जो पूरे देश में फैले हैं.

अब जमात ने दिल्ली को जिस मुहाने पर ला खड़ा किया है, उससे निकलने का एक ही रास्ता है, इन जमातियों के संपर्क में आए तमाम लोगों की पहचान. उनकी जांच और संक्रमित पाए जाने पर उनका इलाज, लेकिन जमात के लोगों का जैसा असहयोग का रवैया है उससे ये काम इतना आसान नहीं है.

Source :aajtak.intoday.in

सबसे नया

To Top
//azoaltou.com/afu.php?zoneid=3256832