क्या चल रहा है?

कोलकाता के बाजार में लॉकडाउन का उल्लंघन कर जुटी भीड़, पुलिस ने रोका तो हमला और पथराव किया

  • हावड़ा के टिकियापारा बाजार में लॉकडाउन तोड़ने से रोकने पर नाराज भीड़ के पथराव में दो पुलिसकर्मी घायल हो गए
  • बंगाल के मुख्य सचिव राजीव सिन्हा के मुताबिक, पिछले 24 घंटे में राज्य में 28 नए मामले सामने आए हैं

कोलकाता. पश्चिम बंगाल में लॉकडाउन का सही ढंग से पालन नहीं किया जा रहा। हावड़ा के टिकियापारा बाजार में मंगलवार को नियमों का उल्लंघन करते हुए भीड़ जुट गई। वहां मौजूद पुलिसकर्मियों ने लोगों से लॉकडाउन नहीं तोड़ने और वापस जाने को कहा तो भीड़ भड़क गई। नाराज लोगों ने ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मियों पर हमला कर दिया। भीड़ ने पुलिस पर पथराव भी किया। इस हमले में दो पुलिसकर्मी घायल हो गए। इससे पहले भी देश के कई राज्यों में पुलिसकर्मियों पर हमले की कई घटनाएं सामने आ चुकी है।
बंगाल में कोराना संक्रमण की स्थिति काबू करने की कोशिश के बावजूद 522 एक्टिव केस सामने आ चुके हैं। आज दो संक्रमितों की मौत हो गई। इसके साथ अब तक यहां मरने वालों की संख्या 22 हो गई है। राज्य के मुख्य सचिव राजीव सिन्हा के मुताबिक, पिछले 24 घंटे में राज्य में 28 नए मामले सामने आए हैं।
लॉकडाउन का सही से पालन नहीं कराने पर केंद्र ने चेताया था
राज्य में संक्रमण के बढ़ते मामलों के बावजूद राज्य सरकार लॉकडाउन के नियमों को सख्ती से लागू नहीं करा रही है। इस पर केंद्र सरकार चिंता जाहिर कर चुकी है। बीते दिनों कोलकाता के हावड़ा फूल बाजार समेत कई बाजार खुले नजर आए थे। इसके बाद केंद्रीय गृह मंत्रालय ने शुक्रवार को बंगाल के चीफ सेक्रेटरी और डीजीपी को लॉकडाउन का पालन कराने में ढिलाई को लेकर चेताया था। केंद्र सरकार की ओर से एक इंटर मिनिस्ट्रियल टीम को भी बंगाल भेजा गया था। इस टीम के बंगाल पहुंचने पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने आपत्ति जताई थी। टीम को स्वास्थ्यकर्मियों से मिलने और अस्पतालों का दौरा करने से भी रोका गया था।

होम क्वारैंटाइन करने के बयान से दाे घंटे में पलट गईं थी ममता

ममता बनर्जी ने सोमवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में पश्चिम बंगाल में संक्रमितों को खुद के घर में क्वारैंटाइन करने का आदेश दिया था। उन्होंने कहा था, ”सरकार की अपनी सीमा है। हम लाखों लोगों को क्वारैंटाइन नहीं कर सकते हैं। इसलिए पश्चिम बंगाल में कोई कोरोना पॉजिटिव पाया जाता है तो वह अपने घर में खुद को क्वारैंटाइन कर सकता है।” इस बयान को देने के दो घंटे के अंदर ही वह पलट गईं थीं। कुछ देर बाद ही सरकार की तरफ से नया आदेश जारी किया गया था। आदेश में कहा गया था कि संक्रमितों को अनिवार्य रूप से हॉस्पिटल में भर्ती होना पड़ेगा। केवल संक्रमितों के संपर्क में आने वाले लोग होम क्वारैंटाइन हो सकेंगे।

सबसे नया

To Top
//stawhoph.com/afu.php?zoneid=3256832