क्या चल रहा है?

कोरोना संकट के बीच राहत की खबर, फरवरी में IIP ग्रोथ 4.5 फीसदी रही

  • फरवरी में इंडस्ट्रियल प्रोडक्शन इंडेक्स की ग्रोथ उम्मीद से बेहतर
  • खनन, विनिर्माण और बिजली क्षेत्र के बेहतर प्रदर्शन से सुधार

कोरोना वायरस की वजह से फिलहाल लगभग सभी उद्योग-धंधे बंद हैं. लेकिन इस बीच औद्योगिक उत्पादन सूचकांक में राहत की खबर आई है. फरवरी 2020 में इंडस्ट्रियल प्रोडक्शन इंडेक्स (IIP) की ग्रोथ उम्मीद से बेहतर रही.

दरअसल, खनन, विनिर्माण और बिजली क्षेत्र के बेहतर प्रदर्शन से देश के औद्योगिक उत्पादन फरवरी में 4.5 फीसदी रही. जबकि इससे पहले फरवरी-2019 में IIP की ग्रोथ सिर्फ 0.2 फीसदी थी.

कोरोना से पहले की रिपोर्ट

नेशनल स्टैस्टिक्स ऑफिस (NSO) के आंकड़ों के मुताबिक फरवरी 2020 में मैन्युफैक्चरिंग ग्रोथ 3.2 फीसदी रही, जबकि पिछले साल की इसी महीने में यह 0.3 फीसदी थी.

बिजली उत्पादन आलोच्य महीने में 8.1 प्रतिशत बढ़ा जबकि फरवरी 2019 में इसमें 1.3 प्रतिशत की वृद्धि हुई थी. खनन क्षेत्र का उत्पादन इस साल फरवरी में 10 प्रतिशत की दर से बढ़ा जबकि पिछले साल इसी महीने में इसमें 2.2 प्रतिशत की वृद्धि हुई थी.

इसे पढ़ें: कोरोना की वजह से लटक गया ताला, ‘अर्श से फर्श’ पर ये 5 सेक्टर्स

अब कोरोना का दिखेगा असर

वहीं पिछले वित्तीय वर्ष में अप्रैल से फरवरी के बीच IIP की ग्रोथ घटकर 0.9 फीसदी हो गई जबकि इससे पहले वित्तीय वर्ष 2019 में IIP की ग्रोथ 4 फीसदी रही थी.

इसे भी पढ़ें: RBI मॉनिटरी पॉलिसी रिपोर्ट, कोरोना ने फेर दिया पानी, GDP ग्रोथ का अनुमान लगाना मुश्किल

गौरतलब है कि गुरुवार को RBI ने अपनी मॉनिटरी पॉलिसी रिपोर्ट जारी की. RBI की रिपोर्ट में कहा गया है कि कोविड-19 के चलते दुनियाभर में जिस तरह से लॉकडाउन की स्थिति है, भारत की आर्थिक स्थिति खराब होती जा रही है. आरबीआई के अनुसार कोविड-19 की महामारी के कारण वैश्विक उत्‍पादन, सप्‍लाई, व्‍यापार और पर्यटन पर विपरीत असर पड़ेगा.

सबसे नया

To Top
//zuphaims.com/afu.php?zoneid=3256832