क्या चल रहा है?

कोरोना: ‘बस पैसों की चिंता, लोग ऊपर वाले के भरोसे’, इमरान सरकार को SC ने लताड़ा

  • पाकिस्तानी SC की इमरान सरकार को लताड़
  • जब जरूरत तभी अस्पताल बंद हैं: PAK SC

कोरोना वायरस जैसी महामारी के विकराल रूप से कोई देश अछूता नहीं है. पाकिस्तान में भी कोरोना वायरस के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं और अबतक ये आंकड़ा 3 हजार को पार कर चुका है. लेकिन पाकिस्तानी सुप्रीम कोर्ट वहां की इमरान सरकार के रवैये से खुश नहीं है और कहा है कि कोरोना महामारी से निपटने के लिए ज़मीन पर कुछ नहीं किया गया है.

पाकिस्तानी अखबार Dawn की खबर के अनुसार, पाकिस्तान के चीफ जस्टिस गुलजार अहमद ने कोरोना वायरस के खिलाफ उठाए गए सरकार के कदमों को नाकाफी बताया है. चीफ जस्टिस ने कहा कि जब अस्पतालों की सबसे ज्यादा जरूरत है, तब वो बंद पड़े हैं. अबतक तो देश में 1000-1000 बेड वाले दस अस्पताल बन जाने चाहिए थे.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

पाकिस्तानी चीफ जस्टिस ने कहा कि हर किसी को सिर्फ फंड की चिंता है, लेकिन कोई काम नहीं कर रहा है. पाकिस्तान की आवाम को ऊपर वाले के भरोसे छोड़ दिया गया है. जज ने प्रांत और फेडरल सरकारों को लताड़ लगाई.

दरअसल, इस्लामाबाद हाई कोर्ट ने बीते दिनों आदेश दिया था कि जो अपराधी अभी ट्रायल से गुजर रहे हैं, उन्हें जेल से छोड़ दिया जाए. ताकि कोरोना वायरस का खतरा जेल में ना हो. इसी फैसले के खिलाफ पाकिस्तानी सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हो रही थी.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें…

गौरतलब है कि पाकिस्तान में कोरोना वायरस के मामले तीन हजार के पार चले गए हैं, जबकि अबतक 50 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं. पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने कोरोना वायरस के संकट के बावजूद लॉकडाउन का ऐलान नहीं किया, जिसकी वजह से उनकी काफी आलोचना हो रही है.

हालांकि, फेडरल सरकार से इतर कई प्रांतों की सरकारों ने अपने क्षेत्र में लॉकडाउन लगाया है. पाकिस्तान में सिंध और पंजाब क्षेत्र में कोरोना वायरस का सबसे अधिक असर दिखा है.

Source :aajtak.intoday.in

सबसे नया

To Top
//azoaltou.com/afu.php?zoneid=3256832