क्या चल रहा है?

कोरोना के खिलाफ जंग की तैयारी, ICMR को मिलेंगी 8 लाख एंटीबॉडी टेस्ट किट

देश में कोरोना से 100 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है और अब तक 4 हजार से अधिक केस सामने आ चुके हैं. कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच सरकार ने क्लस्टर और हॉटस्पॉट इलाकों में रैपिड एंटीबॉडी टेस्ट करने का फैसला किया है. इस टेस्ट के लिए इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) को 8 अप्रैल से 7 लाख टेस्ट किट मिलेंगे.

रैपिड एंटीबॉडी टेस्ट किट की डिलिवेरी आईसीएमआर को चरणबद्ध तरीके से मिलेगी. माना जा रहा है कि पहले चरण में 5 लाख टेस्ट किट मिलेंगे. टेस्ट किट का ऑर्डर दे दिया गया है. बीते दिनों आईसीएमआर ने एक एडवाइजरी जारी की थी, जिसमे कहा गया था कि क्लस्टर या हॉटस्पॉट इलाकों में रैपिड एंटीबॉडी टेस्ट किया जाए.

क्या होता है एंटीबॉडी ब्लड टेस्ट

रैपिड एंटीबॉडी ब्लड टेस्ट में मरीज के खून का सैंपल लिया जाता है. इसका रिजल्ट 15 से 20 मिनट में आ जाता है. इसमें उंगली में सुईं चुभोकर खून का सैंपल लेते हैं. इसमें यह देखते हैं कि संदिग्ध के खून में कोरोना वायरस से लड़ने के लिए एंटीबॉडी काम कर रहे हैं या नहीं.

यह टेस्ट उन लोगों में ज्यादा कारगर है जिनके लक्षण शुरु में नहीं दिखाई देते. हालांकि, रैपिड एंटीबॉडी टेस्ट यह नहीं बताता कि आपको कोरोना वायरस का संक्रमण है कि नहीं. लेकिन इस टेस्ट से यह पता चल जाता है कि कोरोना के मामले किस इलाके में तेजी से बढ़ रहे हैं.

Source :aajtak.intoday.in

सबसे नया

To Top
//azoaltou.com/afu.php?zoneid=3256832