क्या चल रहा है?

कैसे जंग लड़ेंगे कोरोना कमांडोज? औरंगाबाद में मास्क-PPE के लिए डॉक्टरों का प्रदर्शन

  • औरंगाबाद में डॉक्टरों ने किया प्रदर्शन
  • मास्क और PPE के लिए उठाई आवाज

कोरोना महामारी के बीच योद्धाओं का हौसला बढ़ाने के लिए देश ने पहले ताली-थाली बजाकर धन्यवाद किया और रविवार रात दीये जलाकर इस लड़ाई में एकजुटता दिखाई. कोरोना योद्धाओं में सबसे अहम वो डॉक्टर हैं, जो संक्रमितों का इलाज कर रहे हैं. अपने फर्ज को निभाते हुए डॉक्टर पूरी ताकत के साथ इस बीमारी से तो लड़ रहे हैं लेकिन कई जगह हालात ऐसे हैं कि उनके पास अपने प्रोटेक्शन के लिए जरूरी चीजें तक नहीं हैं.

ताजा मामला महाराष्ट्र के औरंगाबाद से आया है. रविवार को जब पूरा देश दीये जलाने की तैयारी कर रहा था, तब औरंगाबाद के राजकीय मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल के डॉक्टर प्रदर्शन कर रहे थे. डॉक्टर इस मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे थे कि उन्हें पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट यानी PPE और N95 सर्जिकल मास्क मुहैया कराए जाएं.

दरअसल, औरंगाबाद के इस अस्पताल में आने वाले दो मरीज और एक स्टाफ मेंबर कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं. ऐसे में यहां के डॉक्टरों की चिंता और ज्यादा बढ़ गई है. अपनी इसी चिंता और डर के साथ ये डॉक्टर रविवार को डीन के दफ्तर के बाहर जाकर प्रदर्शन करने लगे. डॉक्टरों की मांग थी कि जो भी स्टाफ इमरजेंसी हेल्थ सर्विस में ड्यूटी कर रहा है उसे पीपीई और एन-95 मास्क दिए जाएं.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

इस मसले पर महाराष्ट्र रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन की औरंगाबाद यूनिट चीफ डॉक्टर आमिर ताड़वी ने बताया कि ये डॉक्टर हर दिन बड़ी संख्या में मरीजों को देखते हैं. ऐसे में बिना मास्क और पीपीई के ड्यूटी करना खतरे से खाली नहीं है. उन्होंने ये भी कहा कि सिर्फ आवश्यक चीजों की मांग की गई है, किसी भी डॉक्टर ने ड्यूटी करने से मना नहीं किया है.

वहीं, मेडिकल कॉलेज के डीन डॉक्टर कनन ने बताया कि मास्क और पीपीई पर्याप्त संख्या में मौजूद हैं. फिलहाल, ये सभी सामान वार्ड स्टाफ के इंचार्ज के अंडर में रखा गया है और डॉक्टर अगर मांग करते हैं तो उन्हें उपलब्ध करा दिया जाएगा. बाद में जानकारी ये भी आई कि ये सामान डॉक्टर्स को दे दिया गया है.

बता दें कि दिल्ली समेत देश के कई इलाकों से ऐसी खबरें आई हैं, जहां कोरोना मरीजों का इलाज करने वाले डॉक्टर और दूसरे मेडिकल स्टाफ मेंबर्स भी संक्रमण की चपेट में आ गए हैं. लिहाजा, ऐसे में जरूरी है कि सबसे आगे आकर कोरोना से जंग लड़ रहे डॉक्टरों की सुरक्षा के पर्याप्त इंतजाम किए

Source :aajtak.intoday.in

सबसे नया

To Top
//zuphaims.com/afu.php?zoneid=3256832