क्या चल रहा है?

एनडीएमसी ने 30 हजार छात्रों के लिए शुरू की ऑनलाइन क्लास

  • अंग्रेजी, हिन्दी, विज्ञान और गणित विषय के टीचर प्रतिदिन बारी-बारी से छात्रों की 40 मिनट ले रहे हैं क्लास

दिल्ली. (शेखर घोष) नई दिल्ली नगर पालिका परिषद (एनडीएमसी) के शिक्षा विभाग ने अपने शिक्षकों और छात्रों के समन्वय से कोरोना वायरस को चुनौती के रूप में लिया है। कोराेना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए लॉकडाउन के दौरान बंद किए गए स्कूलों में 3 अप्रैल से कक्षा एक से 12वीं तक के छात्रों की जूम एप के माध्यम से ऑनलाइन पढ़ाई शुरू कर दी है। एनडीएमसी के शिक्षक प्रतिदिन अपने 11 नवयुग स्कूल और 31 एनडीएमसी के स्कूलों के लगभग 30 हजार छात्रों को ऑनलाइन सभी विषयों की पढ़ाई करा रहे हैं। स्कूल के चार से पांच शिक्षक सभी कक्षाओं के छात्रों की रोजाना अलग-अलग विषयों की क्लास ले रहे हैं।

पहल: पढ़ाई में छात्रों की रुचि बनी रहे, इसलिए शिक्षक ऑडियो, वीडियो का भी कर रहे हैं प्रयोग
स्कूलों में सभी कक्षाओं में शिक्षक सीबीएसई और डीईओ द्वारा रिकमंडेट ऑनलाइन कोर्स पढ़ा रहे हैं। अंग्रेजी, हिन्दी, विज्ञान, गणित जैसे विषयों की पढ़ाई में छात्रों की रुचि बनी रहे, इसलिए शिक्षक पढ़ाई के दौरान वीडियो, ऑडियो का सहारा ले रहे हैं। इस दौरान शिक्षक छात्रों को समझाने के लिए प्रश्नों से आधारित लिंक, स्क्रीन शॉट की शेयरिंग कर रहे हैं। इसके अलावा ऑडियो और वीडियो संदेशों का प्रयोग भी कर रहे हैं।

अधिकारियों, शिक्षकों, छात्रों का वॉट्सएप ग्रुप बनाया और पैरेंट्स को भी जोड़ा

अधिकारियों, शिक्षकों और छात्रों का एक वॉट्सएप ग्रुप बनाया गया है, जिसमें पैरेंट्स को भी जोड़ा गया है। छात्रों को असाइनमेंट डेट और सब्जेक्ट के आधार पर दिया जा रहा है। इसके अलावा छात्रों द्वारा किए गए कार्यों का एक रिकॉर्ड शिक्षकों द्वारा रखा जा रहा है। जिसे बाद में एक्जामिनेशन के दौरान आंतरिक मूल्यांकन के लिए उपयोग किया जाएगा। छात्रों को प्रत्येक विषय शिक्षक द्वारा दैनिक आधार पर असाइनमेंट जारी किए जा रहे हैं। यही नहीं क्लास टीचरों ने छात्रों के पैरेंट्स को भी वॉट्सएप ग्रुप से जोड़ा है। नवयुग व सभी एनडीएमसी के स्कूलों को पहली से आठवीं तक के सभी छात्रों को पहले ही पदोन्नत किया जा चुका है और कक्षा 9 वीं और 11 वीं के छात्रों को पदोन्नति देने के निर्देश अगले 2-3 दिनों में दिए जाएंगे।

वॉट्सएप, फोन के माध्यम से संपर्क कर जूम एप के प्लेटफार्म पर लाया गया

हमारा उद्देश्य किसी तरह से संक्रमण से शिक्षकों, छात्रों को बचाकर पढ़ाई जारी रखने का था। इसलिए ऑनलाइन एजुकेशन को टूल के तरह इस्तेमाल किया। छात्रों को वॉट्सएप, फोन के माध्यम से संपर्क कर जूम एप के प्लेटफार्म पर लाया गया। भविष्य में हम अपने छात्रों की बेहतर शिक्षा के लिए आईटी का और भी सफल प्रयोग करेंगे।- आरपी गुप्ता, निदेशक, शिक्षा विभाग, एनडीएमसी

Source :www.bhaskar.com

सबसे नया

To Top
//azoaltou.com/afu.php?zoneid=3256832