क्या चल रहा है?

इकलौते बेटे ने मुंबई से वीडियो कॉलिंग के जरिए किए पिता के अंतिम दर्शन, वहीं टास्क फोर्स ने माना-जमातियों ने बिगाड़े हालात

  • राजस्थान में कुल संक्रमित लोगों का आंकड़ा 815 पहुंच गया है, जिसमें सबसे ज्यादा जयपुर में 343 मिले
  • जेके लोन अस्पताल अधीक्षक डॉ. अशोक गुप्ता और डॉ. मनीष गुप्ता ने बताया कि जयपुर में 18 बच्चे कोरोना पॉजिटिव मिले

जयपुर. राजस्थान में कोरोना संक्रमण का आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है। सोमवार को भी यहां 11 नए पॉजिटिव केस सामने आए। जिसमें 10 भरतपुर जिले के बयाना के कसाई पाड़ा मोहल्ले से हैं। वहीं एक बांसवाड़ा में पॉजिटिव मिल। जिसके बाद राज्य में कुल संक्रमितों की संख्या 815 पहुंच गई।

टास्क फोर्स ने माना-जमातियों ने बिगाड़े हालात, लॉकडाउन जारी रखें

प्रदेश में लाॉकडाउन का अध्ययन करने के लिए गठित टास्क फोर्स ने लॉकडाउन बढ़ाने की सिफारिश करते हुए प्रदेश में कोरोना संक्रमण फैलाने का मुख्य जिम्मेदार तब्लीगी जमात को माना है। गृह विभाग के एसीएस राजीव स्वरूप की अध्यक्षता में गठित टास्क फोर्स ने रविवार को सरकार को अपनी रिपोर्ट सौंपी। आठ पन्नों की अपनी रिपोर्ट में टास्क फोर्स ने कहा है कि दिल्ली से आए तब्लीगी जमात के लोग स्थानीय लोगों में इंफेक्शन फैला रहे हैं, जो चिंता की बात है। इससे ही प्रदेश में कोरोना संक्रमितों की संख्या में तेजी से इजाफा हुआ है। 22 मार्च को प्रदेश में 1 कोरोना संक्रमित मरीज मिला था। इसके बाद 31 मार्च तक भी यह संख्या सिर्फ 9 तक पहुंची थी। लेकिन एक अप्रैल से मामले तेजी से बढ़ने लगे। इसकी मुख्य वजह तब्लीगी से जुड़े लोगों का प्रदेश में आना रहा। गृह विभाग के टास्क फोर्स में एसीएस सुबोध अग्रवाल, रोहित कुमार सिंह, प्रमुख सचिव नरेश पाल गंगवार, अजिताभ शर्मा, सचिव सिद्धार्थ महाजन और नीरज के पवन भी शामिल थे।

टास्क फोर्स की रिपोर्ट में कहा गया है कि प्रदेश की मौजूदा टेस्टिंग क्षमता 2500 प्रतिदिन है। संक्रमित मरीजों के लिए 5 हजार बेड चिह्नित किए जा चुके हैं। इसमें केंद्र सरकार से ज्यादा से ज्यादा पर्सनल प्रोटेक्शन किट और दवाएं मंगवाने, टेस्ट किट का प्रदेश में ही बड़े पैमाने पर उत्पादन करने और आयात किए जाने पर जोर दिया गया है। टॉस्क फोर्स ने प्राइवेट लैब्स को भी टेस्ट के लिए अधिकृत किए जाने की सिफारिश की है।

अजमेर दरगाह के सामने कोरोना वॉरियर्स का फूलों के साथ स्वागत किया गया।
देश में 20 साल तक के 1.5 फीसदी कोरोना संक्रमित, राजस्थान में आंकड़ा 5.5 के करीब

जेके लोन में भर्ती 13 साल की एक नाबालिग की शनिवार को मौत के बाद रविवार को कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। प्रदेश में कोरोना से नाबालिग की मौत का यह पहला मामला है। 13 साल की बच्ची आगरा में नानी के पास रहती थी। पिता जयपुर में काम करते हैं। चार माह पहले उसे टायफाइड हुआ तो परिजनों ने आगरा मेेडिकल कॉलेज के अस्पताल में दिखाया। 9 अप्रैल को ही उसे जेके लाेन में भर्ती कराया गया था। इसी के साथ प्रदेश में बच्चों के संक्रमण के आंकड़े लगातार बढ़ रहे हैं। यहां कुल मरीजों के 5.5% तो 15 साल तक की उम्र के हैं। बीते दिनों 2 साल और 4 साल के बच्चों के कोरोना पॉजिटिव आने के मामले भी सामने आ चुके हैं।

बच्चों में संक्रमण का खतरा 
कोरोना एक इंसान या वस्तु से दूसरे इंसान में फैलता है। चूंकि वयस्कों का ही बाहर आना-जाना, घूमना-फिरना और लोगों से मिलना ज्यादा होता है। इसलिए वही वायरस का शिकार ज्यादा होते हैं। अभी तक बच्चों में गंभीर लक्षण देखने को नहीं मिले हैं। खांसी-जुकाम ही लक्षण सामने आ रहे हैं। गंभीर लक्षण सामने नहीं आते, इसलिए जांच नहीं कराते। वैसे सामान्य रूप से स्वस्थ बच्चोें को खतरा नहीं है। कोई बीमार है तो उसके लिए खतरा अधिक है।

नवजात में कोविड-19 
नवजात को भी खतरा है। इसलिए मां या किसी अन्य सदस्य के इन्हें गोदी में लेते हैं। मंुह से या खांसी-जुकाम आदि किसी से नवजात को यह हो सकता है।

प्रदेश में 2-4 साल के बच्चे भी संक्रमित, जयपुर में 18 साल तक के 18 मरीज
जेके लोन अस्पताल अधीक्षक डॉ. अशोक गुप्ता और डॉ. मनीष गुप्ता ने बताया कि जयपुर में 18 बच्चे कोरोना पॉजिटिव मिले। इनमें से 6 को छुट्टी दे दी गई है। प्रदेश में 18 साल तक के 44 बच्चे संक्रमित हैं। यानी कुल केसों का 5.5% संक्रमित बच्चे ही हैं। दो साल की बच्ची में संक्रमण मिला था। वह स्वस्थ हो चुकी।

दुनियाभर में 20 साल तक के 2.5% बच्चे संक्रमित, राजस्थान में 3% ज्यादा
संक्रमित होने से कैसे रोकें कई तरीके हैं। बुजुर्गों से बच्चों को दूर रखें। कोई संक्रमित है तो पास बिल्कुल न जाने दें। बच्चों के हाथ नियमित रूप से धुलाएं। मास्क पहना कर रखें। हर व्यक्ति का अलग बर्तन रखें।
बच्चों के मामले कम क्यों : दुनियाभर में बच्चों के संक्रमण के मामले इसलिए भी कम हैं क्योंकि इनकी जांच भी कम हुई हैं। बच्चों के संक्रमण की जांच तभी हो रही है जब माता-पिता या परिवार में कोई संक्रमित मिले। इसके अलावा बच्चों मंे लक्षण भी पूरी तरह नहीं दिखते।

देश : भारत में छोटी उम्र के संक्रमित ग्लोबल एवरेज से भी 1 फीसदी कम
कोरोना संक्रमितों के कुल आंकड़े पर गौर करें तो भारत में 20 साल तक की उम्र के संक्रमितों की संख्या केवल 129 है (कुल संक्रमितों की संख्या 8075 के आधार पर वेबसाइट www.covid19india.org से)। यानी देशभर में इस आयु वर्ग के केवल 1.5% संक्रमित मिले हैं। यह दुनिया के औसत से कम है।

दुनिया : चीन के 72 हजार मरीजों के सर्वे में 2.4% ही 19 साल से कम उम्र के
डब्ल्यूएचओ के अनुसार दुनिया में 20 साल तक के 2.5% बच्चे कोरोनो संक्रमित मिले हैं। एक न्यूज रिपोर्ट के अनुसार चाइनीज सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल ऐंड प्रिवेंशन ने 20 फरवरी तक करीब 72,314 कोरोना मरीजों का डाटा इकट्ठा किया था। इसमें मात्र 2.4% लोग 19 साल से कम उम्र के थे। अमेरिका में 550 बच्चों के सर्वे में एक भी मौत सामने नहीं आई।

भरतपुर जिले के वैर में कर्फ्यू में ढील देते ही लोगों ने बाजार में खरीदारी के लिए भी भीड़ टूट पड़ी।

जयसमंद में बुजुर्ग की हार्ट अटैक से मौत, इकलौते बेटे ने मूंबई से वीडियो कॉलिंग के जरिए किए अंतिम दर्शन

उदयपुर जिले के जयसमंद (वीरपुरा) गांव मे शनिवार बीती रात हार्ट अटैक से अधेड़ पन्नालाल तेली की मौत हो गई। इनका इकलौता बेटा सूरजमल 900 किलाेमीटर दूर मंुबई में है, जाे लाॅकडाउन के कारण यहां नहीं आ सके। जयसमंद नवयुवक मंडल के पूर्व अध्यक्ष जयंतीलाल तेली ने रविवार सुबह मोबाइल पर वीडियो कॉलिंग के जरिए उनके पिता के अंतिम दर्शन करवाए और दाह संस्कार दिखाया। सूरजमल काे इस बात का दुख है कि वे इकलाैते बेटे हाेने के बाद भी पिता काे मुखाग्नि नहीं दे पाए। उनकी जगह उनके बेटाें ने दादा की अंतिम क्रिया की। परिवार के भी 15 लाेग ही दाह संस्कार में शामिल हुए। हैड कांस्टेबल वक्त सिंह श्मशान घाट में माैजूद थे, जिन्हाेंने सोशल डिस्टेंसिंग की पालना कराई। पन्नालाल नारियल बेचने का काम करते थे। आर्थिक स्थिति खराब होने से आठ माह पहले मजदूरी करने गया इकलौता बेटा भी लाॅकडाउन की वजह से मुंबई मे फंसा गया।

कुशलगढ़ में अब तक 8 बच्चे संक्रमित मिले
बांसवाड़ा जिले के कुशलगढ़ में संक्रमित बच्चों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। सोमवार सुबह आई रिपोर्ट एक पांच साल की बच्ची को कोरोना पॉजिटिव होने की पुष्टी हुई है। वो भी वार्ड 12 से ही है। कुशलगढ़ में अब तक कुल 8 बच्चे कोरोना की चपेट में आ चुके हैं। कुशलगढ़ में अब कुल 53 पॉजिटिव हो गए हैं। कुशलगढ़ में कोरोना पॉजिटिव की संख्या बढ़ने के कारण डूंगरपुर सीमा पर निगरानी को ओर बढ़ा दिया है। कुआं थाना पुलिस ने चीखली के निकट बेडूवा से कडाणा बैकवाटर पर निगरानी की जा रही है। डीएसपी निरंजन चारण, कुआं थानाधिकारी मनीष कुमार ने नाव में बैठकर कडाणा बैकवाटर का जायजा लिया। इसके अलावा मछली कपड़ने वालों को भी रोका जा रहा है। वहीं गलियाकोट पुल पर तीन शिफ्ट में 24 घंटे पुलिस कर्मी ड्यूटी कर रहे हैं। वहीं आला अधिकारी पर डूंगरपुर-बांसवाड़ा सीमा को लेकर लगातार फीडबैक ले रहे हैं।

जयपुर: क्वारैंटाइन सेंटर तलाशने के लिए 50 टीमों का गठन

  • जयपुर विकास प्राधिकरण ने 50 टीमों का गठन किया है। यह टीम शहर में ऐसे सेंटर की तलाश करेगी, जहां क्वारैंटाइन सेंटर बनाया जा सके। लक्ष्य है कि करीब एक हजार लोगों को क्वारैंटाइन करने का इंतजाम किया जाए।
  • जयपुर में रामगंज और उससे सटे इलाके से ही 300 मरीज हो गए हैं। मरीजों की संख्या 200% की रफ्तार से बढ़ रही है। शनिवार को एक ही दिन में 80 नए मरीज सामने आए। इनमें से 77 तो रामगंज क्षेत्र से ही डोर-टू-डोर सैंपलिंग में मिले।
परकोटे में लगातार जारी सैनेजाइजेशन।

33 में से 25 जिलों में पहुंचा कोरोना

राजस्थान के 33 में से 25 जिलों में कोरोना के केस मिल चुके हैं। सबसे ज्यादा जयपुर में 343 (2 इटली के नागरिक) पॉजिटिव मिल चुके हैं। जोधपुर 91 (इसमें 40 ईरान से आए), जैसलमेर में 41 (इसमें 12 ईरान से आए), भीलवाड़ा में 28, झुंझुनूं में 31, टोंक में 59, चूरू में 14, प्रतापगढ़ में 2, डूंगरपुर में 5, अजमेर में 5, अलवर में 7, बीकानेर में 34, उदयपुर में 4, भरतपुर में 19, दौसा में 8, बांसवाड़ा में 53, पाली में 2, कोटा में 40, झालावाड़ में 14, नागौर में 6, करौली में 3, हनुमानगढ़ 2, सीकर 2, बाड़मेर और धौलपुर  में एक-एक संक्रमित मिला है।

राजस्थान में कोरोना से अब तक 11 लोगों की मौत हुई है। इनमें दो भीलवाड़ा, पांच जयपुर, एक बीकानेर, एक जोधपुर, एक टोंक और एक कोटा में हुई है। भीलवाड़ा में पहली मौत 73 वर्षीय बुजुर्ग की हुई थी। उसे कई बीमारियां भी थीं। दूसरी मौत भी भीलवाड़ा में 60 साल के व्यक्ति की हुई। तीसरी मौत अलवर के रहने वाले 85 साल के बुजुर्ग की जयपुर में हुई। उन्हें ब्रेन हैमरेज हुआ था। चौथी मौत बीकानेर में 60 साल की महिला की हुई। वहीं पांचवी मौत जयपुर में 82 साल के बुजुर्ग की हुई। छठवीं मौत कोटा में एक 60 साल के बुजुर्ग की हुई। सातवीं मौत जोधपुर में 77 साल के बुजुर्ग की हुई। आठवीं मौत जयपुर के रामगंज में रहने वाली 65 साल की महिला की हुई। वहीं नौंवी मौत जयपुर के रामगंज इलाके में 62 साल के बुजुर्ग की हुई। वहीं, दसवीं मौत 13 साल की बच्ची की जयपुर में हुई। जिसके बाद 11वीं मौत टोंक में 60 साल के बुजुर्ग की हुई।

Source :www.bhaskar.com

सबसे नया

To Top
//stawhoph.com/afu.php?zoneid=3256832