क्या चल रहा है?

आगरा में बीच सड़क बिखरा दूध, भूख मिटाने के लिए एक साथ जुटे जानवर व इंसान

  • आगरा के रामबाग चौराहे का मामला
  • रोड पर बिखरे दूध को बटोर रहा था इंसान, पास ही कुत्ते पी रहे थे

आगरा. उत्तर प्रदेश के साथ देशभर में कोरोनावायरस का संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है। नतीजा 21 दिनों का लॉकडाउन अब 15 दिन और बढ़ेगा। लॉकडाउन से रोज कमाने खाने वालों के सामने भुखमरी का संकट है। इसी बीच सोमवार को आगरा से एक ऐसी तस्वीर सामने आई है, जो दिल को झकझोर देने वाली है। यहां रामबाग चौराहे पर रोड के बीच बिखरे दूध को पीने के लिए बेजुबान कुत्ते व इंसान एक साथ जुटे थे। जिसने भी ये दृश्य देखा, वही द्रवित हो उठा।

दरअसल, सोमवार को एक दूध वाले का कनस्तर रामबाग चौराहे पर गिर गया, जिससे दूध सड़क पर बिखर गया। जिसे पीने के लिए झुंड में कुत्ते आ गए। वहीं, एक व्यक्ति भी दूध को एक मिट्टी के बर्तन में बटोरने लगा। पास ही कुत्ते उसी दूध को पी रहे थे।

उत्तर प्रदेश में कोरोनावायरस (कोविड-19) के 43 जिलों में 558 टेस्ट पॉजिटिव आ चुके हैं। इनमें 307 तब्लीगी जमातियों के हैं। योगी सरकार ने इन प्रभावित जिलों में 208 क्लस्टर्स की पहचान की गई है। मोटे तौर पर इन क्लस्टर्स में 19 लोग रहते हैं और उन्हें घरों से बाहर निकलने की अनुमति नहीं है। जिन्हें पूर्णतया सील किया गया है। अब तक प्रदेश के 49 लोग डिस्चार्ज किए गए हैं। इनमें आगरा से 10, गाजियाबाद से 7, नोएडा से 13 एवं लखनऊ से 7, कानपुर, शामली, लखीमपुर खीरी, पीलीभीत से 1-1 व मेरठ से 9 मरीज शामिल हैं। प्रदेश में अब तक कोरोना से मेरठ, बस्ती, वाराणसी, आगरा और बुलन्दशहर जिले में 1-1 संक्रमितों की मौत हुई हैं।

Source :www.bhaskar.com

सबसे नया

To Top
//thaudray.com/4/3256832